क्या आप जानते हैं जन-गण-मन कब बना हमारा राष्ट्रगान, पढ़ें भारत के National Anthem से जुड़ी 10 रोचक बातें

क्या आप जानते हैं जन-गण-मन कब बना हमारा राष्ट्रगान, पढ़ें भारत के National Anthem से जुड़ी 10 रोचक बातें

Akanksha Agrawal | Updated: 14 Aug 2019, 03:00:00 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

Independence day 2019: हर हिंदुस्तानी ये जानता है कि भारत के राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रगान (National Anthem History) का सम्मान करना चाहिए। आज पढ़ें भारत के राष्ट्रगान की कुछ एेसी रोचक जानकारियां जो शायद आपको नहीं पता होंगी।

रायपुर. हमारे देश के राष्ट्रीय ध्वज (National flag Tiranga) और राष्ट्रगान (National Anthem) के बारे में तो हम सभी जानते हैं। पर क्या आप इसका इतिहास (National anthem history) जानते हैं? भारत के राष्ट्रीय गान का इतिहास भारत की आजादी (Independence day) का बखान करता है। इसलिए हर स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर झंडा फहराने के बाद सावधान की स्थिति में इसे गाया जाता है। हमारे राष्ट्र के सम्मान का प्रतीक राष्ट्रगान हर हिंदुस्तानी (Proud Indian) के अंदर जोश भर देता है। पढ़ें राष्ट्रगान जन-गण-मन का रोचक इतिहास -

यहां पढ़ें तिरंगे के बनने से लेकर उसके राष्ट्रीय ध्वज घोषित होने तक की रोचक कहानी

1. जन-गण-मन की रचना नोबेल पुरस्कार विजेता गुरूदेव रविन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore) ने की थी। राष्ट्रगान को बंगाली में लिखा गया था, जिसे बाद में हिंदी में अनुवाद किया गया। रविन्द्रनाथ टैगोर ने ही इसका अंग्रेजी अनुवाद किया जिसका शीर्षक दि मार्निंग सांग ऑफ इंडिया दिया।
2. रविन्द्रनाथ टैगोर द्वारा लिखे जन-गण-मन में पांच पद हैं, पर राष्ट्रगान के रूप में केवल पहले पद को अपनाया गया है।
3. राष्ट्रगान को पहली बार आजादी से पहले 1912 में तत्वबोधिनी नाम की पत्रिका में प्रकाशित किया गया था। जिसका शीर्षक था भारत विधाता।
4. राष्ट्रगान को सबसे पहले कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में 27 दिसंबर 1911 को गाया गया था। यहां पर इसे हिंदी और बंगाली दोनों भाषाओं में गाया गया था।
5. संविधान में 24 जनवरी 1950 को जन-गण-मन को राष्ट्रगान के रूप में अपनाया गया।

15 किमी लंबे तिरंगे की रैली निकालकर छत्तीसगढ़ ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, पूरे देश में हो रही चर्चा

6. राष्ट्रगान को 52 सेकंड में गाया जाना होता है। कुछ अवसरों में इसे कम समय में भी गाया जाता है।
7. जब भी राष्ट्रगान गाया जाए हर हिंदुस्तानी को इसके सम्मान में सावधान की स्थिति में खड़े होना चाहिए।
8. कुछ समय पहले भारत के हर सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाने का नियम सुप्रीम कोर्ट द्वारा लागु किया गया था। इसलिए हर सिनेमाघर में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाया जाता है, और इसके सम्मान में सभी दर्शकों को खड़ा होना अनिवार्य है।
9. राष्ट्रगान का सम्मान नहीं करना संविधान में दंडनीय अपराध माना गया है।
10. आज हम राष्ट्रगान को जिस लय में गाते हैं, उसे आंध्र प्रदेश के एक छोटे-से जिले मदनपिल्लै में संगीतबद्ध किया गया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned