scriptInflation hit: In the era of luxury vehicles, procession taken out by | महंगाई की मार : लग्जरी गाडिय़ों के युग में बैलगाड़ी से निकाली बारात | Patrika News

महंगाई की मार : लग्जरी गाडिय़ों के युग में बैलगाड़ी से निकाली बारात

छत्तीसगढ़ बलौदाबाजार जिला में ग्राम कोनारी के एक युवक ने अपनी शादी में परंपराओं का पालन कर मिसाल पेश की। ग्राम कोनारी से युवक को शादी के जोड़े में तैयार कर बैलगाड़ी में जब बारात निकला तो हर कोई उसे देखते ही रह गया। पुरानी परंपरा को कायम रखने के लिए दूल्हा ने यह फैसला लिया था। जिसमें खुशी-खुशी परिवार वाले भी शामिल हुए।

रायपुर

Updated: April 19, 2022 06:47:21 pm

कोरदा (लवन). छत्तीसगढ़ बलौदाबाजार जिला में ग्राम कोनारी के एक युवक ने अपनी शादी में परंपराओं का पालन कर मिसाल पेश की। ग्राम कोनारी से युवक को शादी के जोड़े में तैयार कर बैलगाड़ी में जब बारात निकला तो हर कोई उसे देखते ही रह गया। पुरानी परंपरा को कायम रखने के लिए दूल्हा ने यह फैसला लिया था। जिसमें खुशी-खुशी परिवार वाले भी शामिल हुए।
आज के आधुनिक युग में ग्राम कोनारी का युवक दो बैलगाड़ी के साथ बारात लेकर 3 किमी की दूरी तय कर मल्लिन पहुंचे। वहीं बाराती लोग गाड़ा बाजा के साथ पैदल ही पहुंचे। जहां दुल्हा डेगेश्वर उर्फ संदीप साहू का कहना है कि हमारी पुरानी परंपरा विलुप्त होती जा रही थी। उसे जीवित रखने के लिए व बढ़ती महंगाई को भी देखते हुए मैंने यह निर्णय लिया है। वह दुल्हन को भी बैलगाड़ी से लेकर जाने की बात कही।
बैलगाड़ी से निकली बारात में युवा वर्ग के लोगों में काफी उत्साह देखने को मिला। युवाओं के लिए यह नई बात है लेकिन यह बुजूर्गों के लिए बहुत ही पुरानी बात है। जब गाड़ी, मोटर साइकिल का निर्माण नहीं हुआ था तब अधिकतर लोग बैलगाड़ी से ही बारात लेकर जाते थे। वह दुल्हन को भी साथ लेकर बैलगाड़ी से ही बहुत ही लम्बा सफर तय कर आते थे। यह प्राचीन सभ्यता थी। लेकिन आधुनिक युग में यह पूरी तरह बंद हो गया है।
लेकिन कोनारी से डेगेश्वर उर्फ संदीप साहू के द्वारा आज भी आधुनिक युग में बैलगाड़ी से बारात लेकर जाने से गांव में बुजूर्गों के द्वारा पुरानी बात याद करते हुए बीते दिन याद आ गए। वहीं दुल्हे के पिता का कहना है कि बढ़ते पेट्रोल व डीजल से गाड़ी के किराया के दाम भी बढ़ गए हैं। इसको देखते हुए बैलगाड़ी से जाने का निर्णय लिया गया है। वह हमारी पुरानी संस्कृति है। बैलगाड़ी से निकला दुल्हा डेगेश्वर काफी गरीब परिवार से है।
वह पढ़ाई पूरी कर बेरोजगार होने पर मकान मिस्त्री का काम करता है। दूल्हा ने आगे कहा कि बैलगाड़ी से बारात जाना छत्तीसगढ़ की पुरानी परंपरा हैै। जिसे निभाना चाहिए। खासकर तब जब परंपरा को निभाना संभव हो, लेकिन आजकल के चमक दमक में ही लोग उलझे हुए हैं।
दुल्हा डेगेश्वर ने बताया कि शादी के पहले मेरे मन में विचार आया कि छत्तीसगढ़ की परंपरा को संजोकर कैसे रखना है। इसलिए पुराना परंपरा के साथ विवाह करने का सोचा। मेरे इस फैसले से पूरा परिवार और यहां तक की रिश्तेदार भी खुश हुए और खुशी-खुशी बारात में भी गए। दूल्हे ने बताया कि जब बारात दुल्हन की गांव मल्लिन पहुंचा तो देखने के लिए काफी संख्या में लोग उमड़ पड़े। गांव के एक बुजूर्ग ने बताया कि लगभग 35-40 वर्ष पहले छत्तीसगढ़ में बैलगाड़ी से ही बारात जाते थे। उसके बाद से यह परंपरा खत्म सी हो गई है। इसके बाद आधुनिक युग में लोग अब गरीब से गरीब लोग भी कार से बारात लेकर पहुंचते हैं। इसे 21वीं सदी में यह अनोखा शादी ही कहा जाएगा।
महंगाई की मार : लग्जरी गाडिय़ों के युग में बैलगाड़ी से निकाली बारात
महंगाई की मार : लग्जरी गाडिय़ों के युग में बैलगाड़ी से निकाली बारात

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

Weather Update: दिल्ली में आज भी बारिश के आसार, इन राज्यों में आंधी-तूफान की संभावनाटाइम मैगजीन ने जारी की 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट, जेलेंस्की, पुतिन के साथ 3 भारतीय भी शामिलHaj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाआ गया प्लास्टिक कचरे का सफाया करने वाला नया एंजाइमWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हराया‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’गुजरात: निवेशकों से डेढ अरब की धोखाधड़ी कर फरार हुआ कम्पनी मालिक पत्नी सहित गिरफ्तारक्या होता है येलो, ऑरेंज और रेड अलर्ट का मतलब, मौसम विभाग कब करता है जारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.