आईपीएस राहुल शर्मा आत्महत्या प्रकरण में साक्ष्यों को छिपाया गया

इस मामले की निपष्क्ष जांच कराने की मांग को लेकर वह हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाएंगे। ताकि पूरा मामले उजागर करने के साथ ही दोषियों को सजा दिलवाई जा सके।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 12 Jul 2021, 11:09 AM IST

रायपुर. आईपीएस राहुल शर्मा (IPS Rahul Sharma suicide case ) के आत्महत्या प्रकरण में दोषी अधिकारियों को बचाने के लिए साक्ष्यों को जानबूझकर छिपाया गया। जबकि सुसाइड नोट में रसूखदार लोगों के नाम लिखे हुए थे। इसके बाद भी उनसे कोई पूछताछ नहीं की गई। जबकि सभी को मालूम है कि राहुल शर्मा द्वारा किन परिस्थितियों में खुदकुशी की गई। ये बातें सीबीआई के पूर्व जज प्रभाकर ग्वाल ने रविवार को प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान कही।

Read More : जगन्नाथ रथ यात्रा आज: कोरोना के कारण मंदिर परिसर में रथ खींचने की पूरी होगी रस्में, भव्य आयोजन नहीं

वे साल 2012 के जुलाई से सितंबर तक इस केस की जांच का हिस्सा रहे फिर उन्हें हटा दिया गया था। पूर्व जज ने आरोप लगाया कि आईपीएस राहुल शर्मा खुदकुशी मामले को जानबूझकर काफी हल्के तरीके से जांच की गई। ताकि आरोपियों को बचाया जा सके। पूर्व जज ने कहा कि इस पूरे मामले की जांच किसी वर्तमान जज से कराई जाए।

Read More : निलंबित एडीजी जीपी सिंह को विशेष कोर्ट में हाजिर करें, EOW ने परिजनों को भेजा नोटिस

इस मामले की निपष्क्ष जांच कराने की मांग को लेकर वह हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाएंगे। ताकि पूरा मामले उजागर करने के साथ ही दोषियों को सजा दिलवाई जा सके।

Read More : छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में उतार-चढ़ाव जारी, पिछले 24 घंटों में 188 नए मामले दर्ज, 3 की मौत

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned