भगवान जगन्नाथ रथयात्रा में कोविड-19 से बचाव के लिए करें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन

  • रथयात्रा पर छत्तीसगढ़ की राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने दीं शुभकामनाएं

By: Anupam Rajvaidya

Published: 22 Jun 2020, 10:07 PM IST

रायपुर. आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जाती है। ऐसी मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा के साथ साल में एक दिन अपने गर्भगृह से निकलकर प्रजा का हाल जानते हैं। इस वर्ष 23 जून को यह रथयात्रा निकाली जाएगी। कोरोना वायरस संक्रमण काल की वजह से अपील की गई है कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए।

ये भी पढ़ें...कोरोनाकाल में डीजल के दाम 68 पैसे की वृद्धि के साथ 76.10 रुपए प्रति लीटर
छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उइके ने कहा कि भगवान श्री जगन्नाथ की रथयात्रा हमारी आस्था एवं संस्कृति से जुड़ा पर्व है। ऐसे त्योहार हम सबको एक सूत्र में बंधने का अवसर देते हैं और आपसी सौहार्द बढ़ाते हैं। राज्यपाल ने इस अवसर पर सभी नागरिकों की खुशहाली की कामना की है।
ये भी पढ़ें...सामान्य परिवारों को भी अब सस्ती दर पर नमक देगी सरकार
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को रथयात्रा की बधाई और शुभकामनाएं दी है। उन्होंने कहा है कि भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा सौहार्द, भाईचारे और एकता का प्रतीक मानी जाती है। पूरे देश में हर साल भक्ति-भाव और उत्साह से रथयात्रा का आयोजन किया जाता है और हजारों लोग इसमें शामिल होते हैं।
ये भी पढ़ें...सरकार इस माह मुफ्त देगी एक किलो अरहर दाल
छत्तीसगढ़ से लगे ओडिशा के पुरी में भगवान जगन्नाथ का धाम है। पड़ोसी राज्य होने के कारण प्राचीनकाल से ही छत्तीसगढ़वासियों की भगवान जगन्नाथ में गहरी आस्था और जुड़ाव रहा है। सीएम भूपेश बघेल ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए लोगों से अपील की है कि लोग एक जगह भीड़ लगाने से बचें। भगवान जगन्नाथ की आराधना सोशल डिस्टेंसिंग और संक्रमण से बचाव के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए करें।
ये भी पढ़ें...मानसून: धान की रोपा पद्धति के लिए नर्सरी डालें किसान

Show More
Anupam Rajvaidya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned