कलेक्टर बनना चाहती है रायपुर की केबीसी हॉटसीटर मोनिका

आज कौन बनेगा करोड़पति में महानायक के सवालों का करेंगी सामना

By: Tabir Hussain

Updated: 16 Sep 2021, 01:07 AM IST

ताबीर हुसैन/रायपुर. पॉपुलर रियलिटी शो कौन बनेगा करोड़पति की हॉटसीट तक पहुंचना करोड़ों लोगों का सपना रहता है। इस सीजन में शंकर नगर आदित्य हाइट्स की 34 वर्षीय डॉ. मोनिका गुरुपंचायन बिगबी से मुखातिब हो रही हैं। जिसका प्रसारण आज रात होगा। मोनिका इन दिनों यूपीएससी की तैयारी कर रही हैं। वे आईएएस बनना चाहती हैं। पिता का 6 साल पहले निधन हो गया। वे मैरिड हैं लेकिन सेप्रेट रह रही हैं। उन्होंने बताया, केबीसी के लिए मम्मी शकुंतला गुरुपंचायन काफी पहले से ट्राई कर रही थीं। उनके मन में आने लगा कि हॉटसीट तक पहुंचना हमारी किस्मत नहीं। जब केबीसी के प्रोमो आउट हुए तो मैंने उन्हें मोटिवेट करने के लिहाज से कहा कि चलो मम्मी मैं भी आपके साथ प्रयास करती हूँ। किस्मत कहिए कि मुझे कॉल आ गया औऱ मम्मी कम्पाइनेन बनीं। मैं अक्सर मम्मी से कहती थी कि देखना मुझे कॉल जरूर आएगा। और ऐसा ही हुआ। पता नहीं क्यों मुझे भीतर से यह महसूस होता था कि मैं हॉटसीट तक पहुंच जाऊंगी।

एमबीबीएस डॉक्टर बनना चाहती थी, कुछ माक्र्स से डेंटल मिला

मैं एमबीबीएस डॉक्टर बनना चाहती थी लेकिन कुछ नम्बर से चूक गई। डेंटल कॉलेज मिल गया। मैं इसे किसी फेलियर की तरह नहीं लेती। मैं बतौर डेंटिस्ट बहुत अ'छा किया इसलिए कोई मलाल नहीं है। कई बार नियति के मुताबिक चलना होता है जो अ'छा ही होता है।

सिंगिंग पैशन, सारेगामा के दो राउंड तक गई थी

सिंगिंग मेरा पैशन रहा है। मैंने रियलिटी शो सारेगामा के लिए ट्राई किया था और दो राउंड तक गई भी लेकिन पढ़ाई के चलते प्रॉपर रियाज़ नहीं कर पाई। केबीसी में मैंने ब'चन सर को श्रेया घोशाल का गाना भी सुनाया क्योंकि श्रेया मेरी फेवरेट सिंगर हैं।

कलेक्टर बनना चाहती है रायपुर की केबीसी हॉटसीटर मोनिका

यूपीएससी और केबीसी का लेवल अलग

मैं सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही हूँ। अक्टूबर में प्रिलिम्स हैं। हालांकि मुझे यूपीएससी की तैयारी का फायदा मिला लेकिन केबीसी के लिए मैंने अलग के से तैयारी की। मुझे लगता है कि दोनों का लेवल अलग है। हमारे आसपास जनरल चीजों को लेकर अगर हम अवेयर हैं, न्यूज पेपर पढऩा व न्यूज देखना हॉबी है तो यह केबीसी के लिए हेल्पफुल होती हैं।

कोशिश जारी रखें, भाग्य और ज्ञान पहुंचाएगा वहां तक

केबीसी से मेरे जीवन में बहुत बदलाव आया है। खासतौर पर जो कॉन्फिडेंस बिल्डअप हुआ है वो आगे कई महत्वपूर्ण मोड़ पर काम आएगा। इस मंच की खास बात ये है कि यहां उम्र कोई बंधन नहीं है। मैंने 81 साल के बुजुर्ग का जज़्बा भी देखा है। हॉटसीट तक पहुंचने के लिए दो तीन चीजें महत्वपूर्ण हैं। पहली बात तो प्रयास जारी रखें। दूसरा भाग्य और तीसरा ज्ञान।

डॉक्टरी का सपना पूरा हुआ, दो बाकी हैं

मेरे तीन सपने थे जिसमें से डॉक्टरी का पूरा हो गया। अब यूपीएससी और सिंगर का सपना बाकी है। मैंने 5 साल शास्त्रीय संगीत भी सीखा है। यूपीएससी की तैयारी के चलते अभी किसी भी सोशल प्लेटफॉर्म पर नहीं हूँ। जरूरत के हिसाब से वाट्सएप यूज कर रही हूँ। केबीसी में जिन 9 कन्सटनेन्ट के साथ मैं थी, वाट्सएप ग्रुप बनाया है। हम सभी के बीच बहुत ही अ'छा रिश्ता बन गया है।

सेफ जोन से खेला, श्योर नहीं थी तो गेम क्वीट किया

मैंने यह महसूस किया कि जब आप हॉटसीट पर बैठते हैं तो वह आपको जिम्मेदार बना देती है। आप खेल के दौरान कोई रिस्क नहीं लेना चाहते। इस बार तीन फास्टेट फिंगर राउंड है जो अपने आप में एक चैलेंज है। इसलिए मैंने कोई रिस्क नहीं लिया और जब मैं किसी आंसर पर श्योर नहीं हुई तो गेम छोड़ दिया।

डाउन टू अर्थ हैं बिगबी

बच्चन सर इतने डाउन टू अर्थ हैं कि लगता ही नहीं कि हम सदी के महानायक के साथ बैठे हैं। वे हमें मोटिवेट करते हुए इतना कंफर्ट करा देते हैं कि सारी नर्वसनेस खत्म हो जाती है। इस बार कोविड के चलते बिगबी के साथ फोटो खिंचाने का मौका नहीं मिल रहा है। ये सभी प्रतिभागियों के लिए अफसोस की बात है। लेकिन ये सही भी है। हमारे तो आरटीपीसीआर टेस्ट हुए। हम तीन दिन क्वारेंटाइन रहे। केबीसी के क्रू मेंबर भी काफी सपोर्टिव हैं। उन्होंने हमारा खूब ख्याल रखा।

Tabir Hussain Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned