scriptknow how beauty products invites diabetes, blood pressure in women | खूबसूरती की चाह में ब्यूटी प्रोडक्ट्स के जरिए डायबिटीज को दावत दे रही महिलाएं, जानें लक्षण | Patrika News

खूबसूरती की चाह में ब्यूटी प्रोडक्ट्स के जरिए डायबिटीज को दावत दे रही महिलाएं, जानें लक्षण

आमतौर पर हम ब्यूटी प्रोडक्ट्स जो डेलीयूज़ में इस्तेमाल करते है उनमें फॉरएवर एंड एवरग्रीन केमिकल (forever and evergreen chemical) पॉलीफ्लूरोकाइल पदार्थ पीएफएएस) पाए जाते हैं। इनका मनुष्य और जानवरों के शरीर में वर्षो तक बने रह सकते है|

रायपुर

Updated: May 03, 2022 07:52:35 am

रायपुर . दुनिया के ज्यादतर महिलाएं खुद को खूबसूरत दिखाने के लिए तमाम तरह के कॉस्मेटिक (Beauty Product) का इस्तेमाल करती हैं। महिलाओं में मेकअप की आदत कॉमन है। इसको लेकर डॉक्टर सचेत भी करते हैं कि ये स्किन के लिए खतरनाक हो सकते हैं, बावजूद ब्यूटी पार्लर और कॉस्मेटिक्स (Beauty Parlor And Cosmetics) की दुकानों पर भीड़ कम नहीं होती। नए रिसर्च के बाद केमिकल युक्त सौंदर्य सामग्री को लेकर अलर्ट होने का टाइम आ गया है। एक स्टडी में दावा किया गया है कि ब्यूटी प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं में डायबिटीज का खतरा बढ़ रहा है।

makeip.jpg
Beauty Product Model (Demo Pic)

एक हालिया शोध से पता चलता है कि कॉस्मेटिक्स, फर्नीचर और नॉनस्टिक कुकवेयर सहित उपभोक्ता उत्पादों में विस्तृत रूप में पाए जाने वाले केमिकल मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं में डायबिटीज को बढ़ावा दे रहे है। पीएफएएस के रूप में जाने वाले केमिकल खाद्य पैकेजिंग से लेकर कॉस्मेटिक्स तक कई उत्पादों में पाए जाते हैं।

अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 45 से 56 वर्ष की उम्र की 1,237 डायबिटीज मुक्त महिलाओं के आंकड़ों की जांच की। अध्ययन की शुरुआत में, सभी महिलाओं के पास पीएफएएस (पॉलीफ्लोरोआकाइल और पेरफ्लूरोएकल पदार्थ) नामक केमिकल के लिए ब्लड टेस्ट किया गया, इस केमिकल का उपयोग दाग- प्रतिरोधी और नॉनस्टिक बनाने के लिए किया जाता है।

लगभग 16 वर्षों की इस शोध से यह पता चला कि कुल 102 महिलाओं में डायबिटीज विकसित हुआ। शोधकर्ताओं ने डायबेटोलोजिया में बताया कि सात अलग-अलग प्रकार के पीएफएएस केमिकल से खतरा हो सकता है, महिलाओं में डायबिटीज विकसित होने की संभावना दोगुनी से अधिक है।

पीएफएएस (PFAS) एक सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता है क्योंकि वह पर्यावरण और मानव शरीर में बहुत हानिकारक हैं, यही वजह है कि उन्हें केमिकल के रूप में जाना जाता है। शोधकर्ताओं ने नोट किया कि एडल्ट महिलाओ में अधिकांश मामले टाइप 2 डायबिटीज के हैं, जो उम्र बढ़ने और मोटापे से जुड़े हैं।

पिछले अध्ययनों ने पीएफएएस केमिकल को डायबिटीज के बढ़ते जोखिम से जोड़ा है। EPA के अनुसार, इन केमिकल के संपर्क में आने से कई अन्य स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं |

जिनमें शामिल हैं:

- महिलाओं में फर्टिलिटी में कमी और गर्भावस्था में खतरा बढ़ जाता है
- जन्म के समय कम वजन
- किडनी, सहित कुछ कैंसर के जोखिम
- संक्रमण से लड़ने की क्षमता में कमी और टीकों के प्रति खराब प्रतिक्रिया
- मोटापे का बढ़ता खतरा

एक्सपर्ट की सलाह
एलर्जी एक्सपर्ट ने इस संबंध में दो प्रमुख सुझाव जारी किए हैं। इसमें प्रमुख है फीवर एंटीहिस्टामाइन (fever antihistamine) से बचना, शोधकर्ताओं ने नोट किया कि रसायनों के ज्यादा इस्तेमाल ने पीएफएएस जोखिम को एक गंभीर हेल्थ प्राब्लम में बदल दिया है। इसे देखते हुए कुछ प्रोडक्ट को बैन किया जाना चाहिए। वहीं नेचुरल प्रोडक्ट का इस्तेमाल हमारे शरीर के लिए सबसे ज्यादा मुफीद है।

रिसर्च किया है - महामारी विज्ञानी डॉ सुंग क्यून पार्क (Dr Sung Kyun Park) और मिशिगन विश्वविद्यालय (University of Michigan researchers)
- वहीं ब्रिटेन में नए शोध मे कहा गया है कि ब्यूटी प्रोडक्ट कुछ खास किस्म के रसायनों से डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। शोध के अनुसर पेथलेट्स रसायन की मौजूदगी नेल पॉलिश, हेयर स्प्रे, साबुन और शैंपू जैसे कई प्रोडक्ट में पाया गया है। यही रसायन डायबिटीज का बड़ा कारण बना है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.