डायबिटीज रोगी जानें खान-पान के सही नियम

हैल्थ न्यूज : सही तरह के भोजन करने से लम्बे समय तक डायबिटीज को मैनेज करने में मिलती है मदद

By: ramendra singh

Published: 14 Oct 2021, 11:40 PM IST

यदि आप डायबिटीज से पीडि़त हैं तो इससे होने वाले जोखिमों से बचने के लिए अपने ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करना होगा। इसके लिए आपको अपने भोजन का सही रूप से चयन करना अनिवार्य होगा। क्योंकि सही तरह के भोजन करने से आपको लंबे वक्त तक डायबिटीज को मैनेज करने में मदद मिल सकती है। यदि आप मधुमेह से पीडि़त हैं और आहार में बदलाव करने के लिए तैयार हैं, तो यहां कुछ आसान टिप्स हैं जिन्हें फॉलो कर आप अपने शुगर लेवल को सही तरीके से बनाए रख सकते हैं।


सो कॉल्ड डायबिटीक फूड को फॉलो मत करो


जैसे-जैसे डायबिटीक के मामले बढ़ते जा रहे हैं, वैसे वैसे मार्केट में तमाम तरह के फूड ऑप्शन आ रहे हैं जिन्हें डायबिटीक फ्रेंडली बताया जाता है। लेकिन इस बात का कोई सबूत नहीं है कि इन खाद्य पदार्थों को खाने से ज्यादा स्वास्थ्य लाभ होते हैं। ऐसा भी हो कि उनमें उतनी ही कैलोरी हो सकती है जितनी किसी अन्य पैकेज्ड फूड में पाई जाती है, जो आपके ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित कर सकती है।

फल और सब्जियों का सेवन ज्यादा करें

फल और सब्जियां हमारे लिए अच्छी होती हैं। फलों को नाश्ते के रूप में चुनना आपको विटामिन, खनिज और फाइबर प्रदान करता है। यदि आप सोच रहे हैं कि फलों में शुगर होती है लिहाजा आपको उन्हें अपनी डायट से बचना चाहिए, तो ऐसा बिल्कुल भी न करें। साबुत फल सभी के लिए अच्छे होते हैं, यहां तक कि डायबिटीक रोगियों के लिए भी। फलों में नैचुरल शुगर होती है, जो शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाती है। फलों के जूस की बजाय साबुत फल चुनें। दिन में एक बार बड़े हिस्से का सेवन करने से दिनभर में छोटे हिस्से को खाना बेहतर होता है।

डायट में शामिल करें हेल्दी फैट

किसी भी अन्य पोषक तत्व की तरह वसा हमारे स्वस्थ रहने के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। वसा हमें ऊर्जा देता है लेकिन विभिन्न प्रकार के वसा हमारे स्वास्थ्य को अलग-अलग तरीके से प्रभावित करते हैं। ऐसे फूड को चुनें जिनमें हेल्दी फैट हो, जैसे- अनसाल्टेड नट्स, बीज, एवोकाडो, जैतून का तेल, रेपसीड तेल और सूरजमुखी का तेल। सैचुरेटिड फैट ब्लड में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकता है। सैचुरेटेड फैट घी, मक्खन, केक, बिस्कुट और पेस्ट्री में पाया जाता है।

ज्यादा नमक से हाई ब्लडप्रेशर का खतरा

बहुत अधिक नमक खाने से आपके उच्च रक्तचाप का खतरा बढ़ सकता है, जिससे हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ जाता है। और जब आप मधुमेह से पीडि़त होते हैं, तो आपको इन सभी स्थितियों का खतरा और भी अधिक होता है। डायट में नमक कम करने के लिए आपको पैक किए गए स्नैक्स के सेवन से दूरियां बनानी होंगी, क्योंकि उनमें बहुत अधिक नमक होता है। साथ ही तैयार हुए भोजन की थाली में ऊपर से कभी नमक डालने की आदत न डालें।

फाइबर शामिल करें

आपके हर मील में कम से कम 8 ग्राम फाइबर होना जरूरी है, खासकर जब आप कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन कर रहे हों। यह रक्त शर्करा के स्तर को मैनेज करने में मदद करने के साथ-साथ आपके दिल की सेहत का ख्याल रखेगा और लंबे समय तक आपके पेट को भरा हुआ महसूस कराएगा। आपको अपने आहार में मटर, बीन्स, जई, जौ, सेब, नाशपाती, जामुन, शकरकंद, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली, गाजर और चुकंदर जैसे खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए।

प्रोसेस्ड और रेड मीट को अवॉइड करें

अगर आप रेड मीट और प्रोसेस्ड फूड का सेवन ज्यादा करते हैं तो इसे सीमित कर दें। रेड और प्रोसेस्ड मीट जैसे हैम, बेकन, सॉसेज, लैंब और बीफ आपके दिल की समस्याओं और कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं। मीट को दालों और अनसाल्टेड नट्स के साथ रिप्लेस करें क्योंकि ये विकल्प फाइबर से भी भरपूर होते हैं और आपके रक्त शर्करा के स्तर को बहुत अधिक प्रभावित नहीं करते हैं।

100 प्रतिशत साबुत गेंह का आटा और ब्राउन राइस बेहतर विकल्प

100 प्रतिशत साबुत गेहूं का आटा और ब्रेड खाने का विकल्प चुनें। सफेद की जगह ब्राउन राइस का इस्तेमाल करें। आप जई और जौ जैसे अनाज भी शामिल कर सकते हैं। ये विकल्प आपके पेट को अधिक समय तक भरा रखेंगे और रक्त शर्करा में तत्काल वृद्धि नहीं करेंगे।

ramendra singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned