CG Assembly: हंगामे के साथ सदन शुरू, विपक्ष ने कोरोना प्रबंधन में अव्यवस्था को लेकर स्थगन प्रस्ताव दिया

छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र (Monsoon session of Chhattisgarh Assembly) का दूसरा दिन हंगामे के साथ शुरू हुआ। विपक्ष ने कोरोना प्रबंधन में अव्यवस्था को लेकर स्थगन प्रस्ताव (Motion for Adjournment) दिया और चर्चा की मांग की।

By: Ashish Gupta

Published: 26 Aug 2020, 03:02 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र (Monsoon session of Ahhattisgarh Assembly) का दूसरा दिन हंगामे के साथ शुरू हुआ। विपक्ष ने कोरोना प्रबंधन में अव्यवस्था को लेकर स्थगन प्रस्ताव (Motion for Adjournment) दिया और चर्चा की मांग की। उधर, सरकार ने भी इस मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव पर सहमति जता दी। विधानसभा अध्यक्ष ने स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा के लिए 3 बजे का समय तय किया है।

सदन में विपक्ष ने कोरोना और क्वारंटाइन सेंटर के मुद्दे पर कहा, प्रदेश में कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं। जानमाल की क्षति हो रही है। प्रदेश भर में क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं जिनमें निश्चित समय तक रखा जा रहा है। लेकिन क्वारंटाइन सेंटर में अव्यवस्था की वजह से लोगों की मौतें हो रही है। क्वारंटाइन में कभी सांप-बिच्छू के काटने से मौत हो रही है तो कभी महिला से छेड़छाड़ हो रही है। अव्यवस्था से तंग आकर लोगों की मौत हो रही है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा, यह कहना असत्य है कि अव्यवस्था के कारण मौतें हुई है। जामा बाई बुढ़गहन पामगढ़ की सर्पदंश से मौत नहीं हुई वह ठीक होकर गई। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि क्वारंटाइन में शराबखोरी की शिकायत आई थी, जिसकी गंडई थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। 6 लाख 70 हजार लोगों के रुकने की व्यवस्था क्वारंटाइन सेंटर में की गई थी। वहां पानी-बिजली के साथ सभी जरूरी व्यवस्था की गई थी। सीतापुर के प्रदीप केरकेट्टा ने दुखद आत्महत्या की थी। जबकि पंडरिया के तुलसी दलगा की आत्महत्या की जानकारी सही नहीं है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned