ठगी के आरोप में प्रेमी-प्रेमिका हुए गिरफ्तार, फिल्म बंटी-बबली देख सीखा फ्रॉड का तरीका

- लोगों को ठगने वाले प्रेमी-प्रेमिका को पुलिस ने किया गिरफ्तार
- लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे थे आरोपी युवक-युवती

By: Ashish Gupta

Published: 26 Oct 2020, 09:26 PM IST

रायपुर. फिल्म बंटी-बबली से प्रेरित होकर रायपुर में लोगों को ठगने वाले प्रेमी-प्रेमिका को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। दोनों के खिलाफ पुलिस को 100 शिकायतें मिली हैं। आरोपियों ने किसी को नौकरी दिलाने के नाम पर, तो किसी को उसकी जमीन खरीदने के नाम पर ठगा है। कई लोगों को फर्जी नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिया है। हर बार दोनों अपना नाम और मोबाइल का सिम बदल लेते थे। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

पुलिस के मुताबिक भाठागांव निवासी पद्दुम्न अंबरीश शर्मा और राजनांदगंव की सिमरन लालवानी राजेंद्र नगर इलाके में लिव इन रिलेशनशिप में रहते थे। दोनों मिलकर रोज विज्ञापन पढ़ते थे। और उसमें जमीन बेचने वालों का पता करते थे। जमीन बेचने वालों को फोन करते थे। पद्दुम्न खुद को खरीदार बताता था और सिमरन वकील बनकर जमीन बेचने वाले को उनके अधूरे दस्तावेज बनाने का झांसा देते थे। और दस्तावेज बनाने के नाम पर पैसे ले लेते थे।

6 महीने में जेब पर बढ़ा बोझ, 5 सदस्यीय परिवार का खर्चा 8000 से बढ़कर 10 हजार के करीब पहुंचा

इसके बाद अपना मोबाइल फोन बंद कर देते थे। पीडि़तों ने इसकी शिकायत खम्हारडीह, सिविल लाइन और आमानाका थाने में की थी। पुलिस ने अपराध दर्ज करके आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।उल्लेखनीय है कि राजेंद्र नगर के दीपक जिंदवानी और खम्हारडीह के श्रवण कुमार राठौर की शिकायत के बाद पुलिस ने दोनों को पकड़ा है। इसके बाद आरोपियों के खिलाफ कई लोगों ने शिकायत की है।

पूरा खर्च ठगी के पैसों से
पूछताछ में खुलासा हुआ है कि दोनों युवक-युवती ठगी के पैसों से अपने घर का खर्चा चलाते थे। मकान का किराया, राशन, घर के जरूरी सामान सभी ठगी के पैसों से खरीदते थे। पुलिस ने आरोपी के कब्जे से कूलर, टीटेबल, स्टूल, सोफा, तखत आदि घरेलू सामान सहित बड़ी संख्या में फर्जी नियुक्ती पत्र बरामद किया गया है। नियुक्ति पत्र एनआरडीए व सिंचाई विभाग के हैं। इसके अलावा फर्जी सील भी बरामद किया गया है।

Corona Update: होम क्वारंटीन मरीजों के ठीक होने के बाद सामने आई ये बड़ी समस्या

नौकरी के नाम पर ठगी
दोनों काफी शातिर हैं। आरोपियों ने कई लोगों को सिंचाई विभाग, एनआरडीए में नौकरी दिलाने का भी झांसा दिया है। इसके लिए आरोपियों ने रायपुर के अलावा दुर्ग-भिलाई में भी कई लोगों को झांसा दिया है। बेरोजगारों को भरोसा दिलाने के लिए उन्हें फर्जी ज्वाइनिंग लेटर दे देते थे। इससे उनका भरोसा बढ़ जाता था। इसके बाद पैसा लेकर फरार हो जाते थे। प्रारंभिक जांच में पुलिस के पास करीब 100 ऐसी शिकायतें मिली हैं, जिसमें दोनों ने मिलकर धोखाधड़ी की है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned