न रहे AIIMS की दवाइयों के भरोसे, ले सकती हैं आपकी जान

न रहे AIIMS की दवाइयों के भरोसे, ले सकती हैं आपकी जान

Deepak Sahu | Publish: May, 06 2019 11:09:30 PM (IST) | Updated: May, 06 2019 11:09:32 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

* AIIMS में इलाज करवा के खा रहा था अमृत फार्मेसी से ख़रीदा दवाई, एक महीने में मरीज पंहुचा वेंटीलेटर

* सोमवार को औषधि प्रशासन की टीम की एक्सपायरी दवा बेचने की पुष्टि

रायपुर. राजधानी के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में संचालित अमृत फार्मेसी द्वारा एक्सपायरी इंजेक्शन होने और इसकी सप्लाई की पुष्टि हो चुकी है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम ने शनिवार देर रात ही स्टोर की जांच की थी, जिसकी रिपोर्ट सोमवार को सौंपी है ।

जांच दल ने पाया कि स्टोर में सुपर पेनम की एक्सपायरी दवा रखी हुई थी, जिसे स्टोर कीपर द्वारा मरीज के परिजनों को बेचा गया। वहीं, सोमवार को फिर से टीम ने अमृत फार्मेसी की जांच की। इसमें ये दवाइयां कहां से और कब खरीदी गई थी, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। सहायक औषधि नियंत्रक बीआर साहू ने बताया कि मंगलवार को संबंधित स्टोर की अंतिम रिपोर्ट आ जाएगी।

इसके बाद स्टोर संचालक को नोटिस जारी कर जवाब मांगा जाएगा। जवाब मिलते ही स्टोर संचालक के खिलाफ लाइसेंस निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। उधर एम्स प्रबंधन और फार्मेसी की लापरवाही का खामियाजा 67 वर्षीय मरीज भुगत रहे हैं। फेफड़े का इलाज कराने पाटन से आए प्रकाश चंद्र जैन तीन एक्सपायरी इंजेक्शन लगने से वेंटीलेटर पर पहुंच गए।


अधिकारी जुटे फार्मेसी के बचाव में

जांच के लिए अमृत फार्मेसी गए अधिकारियों ने बताया कि स्टोर में कई दवाइयां एक्सपायर्ड हो जाती हैं। इन्हें समय पर वापस करने की व्यवस्था नहीं होती है। एक निर्धारित रैक में एक्सपायर्ड दवाइयां रखी गई थी। मरीज के परिजन जब दवा लेने स्टोर में गए तो स्टोरकीपर ने भूलवश ये दवाइयां बेच दीं। हालांकि अधिकारी संबंधित स्टोर पर कार्रवाई की बात कर रहे हैं।

लाइसेंस निलंबन सहित एफआईआर

एक्सपायरी दवा बेचने पर ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट में कड़ी कार्रवाई का प्रावधान है। इसके तहत सबसे पहले संबंधित स्टोर का लाइसेंस निरस्त किया जाता है और स्टोर संचालक के खिलाफ एफआईआर की जाती है। इस मामले में भी अमृत फार्मेसी के संचालक के ऊपर ठोस कार्रवाई की जा सकती है।

 

नोटिस के बाद होगी कार्रवाई

अमृत फार्मेसी में एक्सपायरी दवाइयों की पुष्टि हो गई है। ये दवा कहां से आई, कब आई, इसके लिए सोमवार को फिर जांच की गई। रिपोर्ट आने के बाद संबंधित को नोटिस जारी किया जाएगा और नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।


एम्स रायपुर अधीक्षक डॉ. अजय दानी का कहना पूरे मामले में दो फार्मासिस्ट को बर्खास्त किया जा चुका है। तीन सदस्यीय कमेटी की जांच रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned