रायपुर: नेताओं-अफसरों तक पहुंच बताकर नौकरी का लालच, बेरोजगारों से लाखों की ठगी

आरोपी के खिलाफ तीन अलग-अलग अपराध दर्ज, भेजा जेल

By: Devendra sahu

Published: 21 May 2020, 06:29 PM IST

रायपुर. नवा रायपुर इलाके में शातिर बदमाश ने पुलिस विभाग और एयरपोर्ट में नौकरी दिलाने का झांसा देकर लाखों रुपए की धोखाधड़ी की। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अलग-अलग अपराध दर्ज कर लिया है। देर शाम उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

एयरपोर्ट में नौकरी लगाने के नाम पर लिया दो लाख रुपए एडवांस
पुलिस के मुताबिक राजनांदगांव निवासी नोहर सिन्हा की मुलाकात निमोरा निवासी उमेश बारले से हुई। उमेश मंत्रालय के अफसरों और नेताओं से अपने संबंध होने का दावा करते हुए नौकरी लगवा देने का झांसा दिया। नोहर उसके झांसे में आ गया। नोहर ने एयरपोर्ट में ग्राउंड हैंडलर की नौकरी के लिए उससे बात की। उमेश ने नौकरी लगवाने के बदले 3 लाख 50 हजार रुपए की मांग की। साथ ही यह भी कहा कि २ लाख रुपए एडवांस देना होगा। नोहर तैयार हो गया। नोहर ने दो किस्तों में दो लाख रुपए उसे दे दिए। उमेश ने एक माह के भीतर नौकरी लगवा देने का आश्वासन दिया। एक माह बाद भी नौकरी नहीं लगी, तो नोहर ने अपने पैसे वापस मांगे। उमेश ने उसे पैसा वापस करते हुए डेढ़ लाख रुपए का चेक दिया। लेकिन चेक बाउंस हो गया। इसके बाद से उमेश ने अपना मोबाइल नंबर भी बंद कर लिया। नोहर सिन्हा की शिकायत पर पुलिस ने उमेश बारले के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया।
5 लाख में रेलवे में नौकरी का झांसा
आ रोपी उमेश बड़ा शातिर है। उसने नौकरी के नाम पर कई युवाओं को झांसा दिया है। नोहर की ही तरह लक्ष्मी नारायण धृतलहरे को भी रेलवे विभाग में नौकरी लगवाने का आश्वासन दिया था। उसने लक्ष्मी से ५ लाख रुपए में नौकरी लगवाने का झांसा दिया। लक्ष्मी ने अलग-अलग किस्त में ४ लाख रुपए दिए। बाकी एक लाख रुपए बाद में देना तय हुआ। लक्ष्मी रेलवे की परीक्षा में शामिल हुआ, लेकिन उसका चयन किसी में नहीं हुआ। इसके बाद उसने उमेश से संपर्क किया और पैसे वापस मांगे। उमेश ने उसे भी चेक दिए। लेकिन चेक बाउंस हो गया। इसकी शिकायत लक्ष्मी ने राखी थाने में की। पुलिस ने उमेश के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया।
आरक्षक बनाने के नाम पर ठगे दो लाख रुपए
उमेश ने दुर्ग जिले की एक महिला को पुलिस विभाग में आरक्षक की नौकरी दिलाने का झांसा दिया। रिसाली निवासी चंद्रकली चतुर्वेदी को पुलिस विभाग में निकली भर्ती के दौरान आरक्षक के पद में नियुक्त कराने का आश्वासन दिया और उससे दो लाख रुपए लिए। दो लाख रुपए लेने के बाद भी आरोपी ने महिला को नौकरी नहीं दिलाई और न ही पैसा वापस किया। इसकी शिकायत पर पुलिस ने उमेश के खिलाफ अलग से धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया। पुलिस ने उमेश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Devendra sahu Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned