विदेशी टूरा ल भी मैं छत्तीसगढ़ी सिखाहूं... ने रचा इतिहास, मिले 1 मिलियन व्यूव

जानिए बेमेतरा के छोटे से गांव सिंघौरी की रहने वाली अर्चना गोस्वामी की कहानी

By: Tabir Hussain

Published: 04 Jun 2020, 03:36 PM IST

ताबीर हुसैन @ रायपुर. बॉलीवुड में रैप सॉन्ग ट्रेंड में है। रैपर्स पर तो गलीब्वॉय फिल्म भी बन चुकी है। शहर में कई रैपर्स हैं लेकिन आज आपको प्रदेश की पहली फीमेल रैपर्स से मुलाकात करा रहे हैं। इनके गाए एक गीत छत्तीसगढिय़ा काला कथे तोला मैं बताहूं को एक मीलियन से ज्यादा लोगों ने देखा है। छत्तीसगढिय़ा के पॉवर आजा तोला मैं दिखाहूं, छत्तीसगढिय़ा काला कथे तोला मैं बताहूं। विदेशी टूरा ल भी मैं छत्तीसगढ़ी सिखाहूं। इस गीत को गाया है मिनी साइक्लोन यानी अर्चना गोस्वामी ने। यूट्यूब पर इसे 1 मिलियन व्यू मिल चुके हैं और करीब 17 हजार लोगों ने इस पर टिकटॉक बनाया है जिसमें छॉलीवुड के सितारे भी शामिल हैं। अपने गाने को इतनी पॉपुलर्टी मिलने पर मिनी काफ एक्साइटेड है। वे पहली फीमेल छत्तीसगढिय़ा हैं जिसके रैप सॉन्ग ने इतनी धूम मचाई है। इन दिनों वे इस कामयाबी को सेलिब्रेट कर रही हैं।

विदेशी टूरा ल भी मैं छत्तीसगढ़ी सिखाहूं... ने रचा इतिहास, मिले 1 मिलियन व्यूव

योयो हनी सिंह और बादशाह के गाने सुनती थी
पत्रिका से अपनी जर्नी शेयर करते हुए बताया कि मैं योयो हनी सिंह और बादशाह के गाने सुनती थी। एक तरह से दीवानगी थी। अपने भाइयों से मैं एक-एक घंटे के लिए फोन मांगा करती थी। स्कूल टाइम पर मैं रैप गाया करती थी। कॉमर्स की मैम स्निग्धा रॉय ने शुरू से मनोबल बढ़ाया। उस वक्त फैमिली का खास सपोर्ट भी नहीं था, पर बाद में पसंद करने लगे। जब रैप लिखना शुरू किया तो हर गाना मेरी कजिन निशु जो बेस्ट फ्रेंड भी है, उसे सुनाया करती थी। हालांकि उसे मेरे लिखे में इंट्रेस्ट नहीं था लेकिन एन्केरेज जरूर करती थी।

विदेशी टूरा ल भी मैं छत्तीसगढ़ी सिखाहूं... ने रचा इतिहास, मिले 1 मिलियन व्यूव

रिश्तेदार कहते थे पागल हो गई है

रिश्तेदार तो पागल कहते थे। घर वालों को तंज कसा करते थे। कभी-कभी लगता था कि नहीं रैप की दुनिया में कुछ नहीं कर पाऊंगी। लेकिन छोड़ देती तो इन्हें जवाब कैसे देती। ट्वेल्थ के बाद मैं खैरागढ़ गई और वहां से रायपुर शिफ्ट हुई क्योंकि मुझे पता था कि राजधानी में रैप का स्कोप है।

विदेशी टूरा ल भी मैं छत्तीसगढ़ी सिखाहूं... ने रचा इतिहास, मिले 1 मिलियन व्यूव

आखिर क्यों पसंद किया गया

इस गीत गल्र्स के दो रूप दिखाए गए हैं। पहला शहर और दूसरा रूप गांव का। दोनों ही सूरत में लड़कियां किसी से कम नहीं है। गीत में छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ी को काफी तवज्जो दी गई है। रोबोटिक अवाज भी लोगों को भा गई। संभवत: ये पहला रैप गीत है जिसे टिकटॉक में काफी लोगों ने कॉपी किया। आप गूगल में मिनी साइक्लोन लिखेंगे तो ये गीत सामने आ जाएगा।

विदेशी टूरा ल भी मैं छत्तीसगढ़ी सिखाहूं... ने रचा इतिहास, मिले 1 मिलियन व्यूव
Tabir Hussain Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned