मंत्री लखमा बोले, नए उद्योग की स्थापना जनता को विश्वास में लेकर ही किया जाएगा

साथ ही इस बात की भी हिदायत दी है कि उद्योग लगाने के लिए निजी जमीनों का अधिग्रहण कम से कम किया जाए।

रायपुर. टाटा उद्योग की जमीन वापसी के फैसले के बाद सरकार नए उद्योग लगाने को लेकर भी सतर्क हो गई है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने वाणिज्य और उद्योग विभाग की पहली समीक्षा बैठक में स्पष्ट कर दिया है कि नए उद्योग की स्थापना स्थानीय जनता को विश्वास में लेकर ही किया जाए। साथ ही इस बात की भी हिदायत दी है कि उद्योग लगाने के लिए निजी जमीनों का अधिग्रहण कम से कम किया जाए।

 

मंत्री लखमा ने मंत्रालय में हुई समीक्षा बैठक में सरकार की प्राथमिकता गिनते हुए कहा, जन घोषणा पत्र के अनुसार प्रदेश में 200 फुडपार्क की स्थापना की जानी है। इसके लिए विकासखण्ड स्तर में विशेष कार्ययोजना बनाई जाए। प्रदेश में लघु उद्योगों को बढ़ावा दिया जाएगा। ऐसे उद्योगों की स्थापना की जानी चाहिए, जिनमें अधिक से अधिक से स्थानीय लोगों को रोजगार मिले, संसाधनों का संतुलित दोहन हो और स्थानीय पर्यावरण का संतुलन भी बना रहे। बैठक में विभाग के अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
बस्तर में कृषि आधारित उद्योग को बढ़ावा देने पर जोर

मंत्री लखमा ने कहा, कि जिस जिले में उद्योग की स्थापना हो वहां पर जिला स्तर की बैठक करें और समस्त स्थानीय जनप्रतिनिधियों आमंत्रित कर उनसे सुझाव लिया जाए। लखमा ने कहा कि बस्तर के दंतेवाड़ा, बीजापुर, कांकेर इत्यादि जिलों में विशेष रूप से कृषि आधारित उद्योगों सहित अन्य उद्योग भी लगाया जाए, ताकि स्थानीय लोगों को अधिक से अधिक रोजगार मिले।

Show More
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned