छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने केन्द्र से कहा, कोवैक्सीन नहीं लगने देंगे, न भेजें

कोरोना वैक्सीन पर छत्तीसगढ़ में फिर से सियासी संग्राम छिड़ गया है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने फिर से कोरोना की को-वैक्सीन पर सवाल उठाते हुए केंद्र को पत्र लिखा है। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से उन्होंने कहा कि बिना तीसरे फेज की टेस्टिंग पूरा कराये को-वैक्सीन का छत्तीसगढ़ में वैक्सीनेशन करना संभव नहीं है।

By: Dhal Singh

Updated: 12 Feb 2021, 02:17 AM IST

रायपुर. केंद्र सरकार लगातार राज्य में कोवैक्सीन की सप्लाई कर रही है। अब तक राज्य को कोवैक्सीन के 37,760 डोज मिल चुके हैं, 1,49,120 डोज मार्च में मिलेंगे। मगर, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने शुरू से ही इसके इस्तेमाल पर रोक लगा रखी है। उन्होंने 8 फरवरी को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिखकर कहा, कि राज्य में कोवैक्सीन की सप्लाई न करें। हम इसे नहीं लगा सकते। जो सप्लाई की गई है उसे वापस ले लें, ताकि वैक्सीन खराब न हो। सिंहदेव के इस पत्र के विरुद्ध पूर्व मंत्री एवं भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को चिट्टी लिखकर मांग की है कि जल्द से जल्द कोवैक्सीन लगाने का लगाए जाने का निर्णय लें।
वैक्सीन को लेकर अब वर्तमान मंत्री और पूर्व मंत्री आमने-सामने आ गए हैं। और अब यह विवाद गरमाता जा रहा है। बृजमोहन ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री द्वारा वैक्सीन को लेकर लिया गया फैसला मंत्रीमंडल के सामूहिक जवाबदेही के खिलाफ है। कोवैक्सीन को राज्य मे इस्तेमाल नहीं करने देंगे, यह कहना दुर्भाग्यजनक है। यह राज्य के नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है। उन्होंने सीएम को लिखी चिट्टी में यह भी लिखा कि आप दोनों के बीच कुर्सी की रस्सा-कस्सी के बीच, नागरिकों के जान की कीमत नहीं लगानी चाहिए। पूरी दुनिया मे भारत की को-वैक्सीन और कोविशील्ड की मांग हो रही है। आईसीएमआर ने इसके इस्तेमाल पर स्वीकृति दी है तो फिर विरोध क्यों?
मई है कोवैक्सीन की एक्सपायरी डेट
केंद्र से पहले चरण में मिली कोवैक्सीन दिसंबर में बनी, जिसकी एक्सपायरी डेट मई 2021 है। इसके पहले इसका इस्तेमाल करना ही होगा। कई राज्य कर भी रहे हैं।

Dhal Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned