वर्षा जल संचयन के लिए अब आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल

‘व्ही-वायर इंजेक्शन वेल’ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम से दूर होगी पेयजल समस्या

By: lalit sahu

Updated: 24 May 2020, 07:02 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशन और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रूद्रकुमार के मार्गदर्शन में अब राज्य में वर्षा जल को सहेजने के लिए वाटर हार्वेस्टिंग की उन्नत तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। उल्लेेखनीय है कि मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने राज्य के ग्रीष्म काल में भू-जल स्तर गिरने से पेयजल समस्या से प्रभावित ग्रामों को चिन्हित कर प्राथमिकता के साथ आधुनिक तकनीक से रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने के निर्देश दिए थे।

काढ़ा सेवन के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में आयुष विभाग चला रहा जनजागरूकता अभियान

विभागीय अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार यह तकनीक उन क्षेत्रों के लिए अधिक कारगर और प्रभावी होगी जहां ग्रीष्म काल में भू-जल स्तर गिरने से पेयजल और निस्तार की गंभीर समस्या आती है। इसके तहत ‘व्ही वायर इंजेक्शन वेल’ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम दुर्ग जिले के निकुम और अंजोरा ढाबा गांव में इस तकनीक को लगाने के लिए 16 लाख रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी गई है। उन्होंने ‘व्ही वायर इंजेक्शन वेल’ रेन वाटर हार्वेस्टिंग तकनीक और इसकी कार्य प्रणाली के संबंध में बताया कि इस तकनीक से 2.5 एकड़ क्षेत्र में होने वाली वर्षा जल से 10 एमएलडी अर्थात एक करोड़ लीटर वर्षा जल को जमीन के अंदर इंजेक्ट कर रिचार्ज किया जा सकता है। इस योजना के पूर्ण होने से क्षेत्र के 10 हजार ग्रामीण लाभान्वित होंगे।

Show More
lalit sahu Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned