भाजपा युवा मोर्चा में 35 साल से अधिक उम्र वाले तो हैं हीं, कई ऐसे नाम जिन्हें कोई भी नहीं जानता

- पुरंदेश्वरी की सख्ती के बाद जिला कार्यकारिणी में नियुक्तियों पर रोक
- प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू से भी कार्यकर्ताओं और पार्टी की नाराजगी

By: Ashish Gupta

Published: 17 Feb 2021, 01:52 PM IST

रायपुर. भाजपा प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी (Chhattisgarh BJP in Charge D Purandeswari) ने युवा मोर्चा की कार्यकारिणी और जिला अध्यक्षों की आयु, पूर्व में जिम्मेदारी और अनुभव की रिपोर्ट क्या मांगी, पार्टी के अंदर घमासान मचा हुआ है। स्थिति यह है कि अब तो नियमों को ताक पर रखकर हुई नियुक्तियों पर सीधे-सीधे तलवार लटक गई है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक कई ऐसे पदाधिकारी हैं जिनकी उम्र 35 साल से अधिक है, तो कई ऐसे भी जिन्हें कभी पार्टी कार्यालय में नहीं देखा गया, न ही ये मंडल में किसी पद पर रहे। युवा मोर्चा प्रदेश प्रभारी अनुराग सिंहदेव और मंत्री ओपी चौधरी ने सभी पदाधिकारियों के बायोडाटा मंगवा रहे हैं, क्योंकि इन्हें सीधे पुरंदेश्वरी को रिपोर्ट करना है।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों का उत्पात, सड़क निर्माण में लगी 8 गाड़ियां फूंकी, दो की हत्या

उधर, युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू को लेकर भी कार्यकर्ताओं में नाराजगी है। प्रदेश पदाधिकारी भी नाराज हैं। यह नाराजगी उनकी प्रदेश टीम को लेकर है, जिसमें 2 जिम्मेदार पद पर बैठे पदाधिकारियों नियुक्ति से पहले कभी भी सक्रिय नहीं देखा गया। अब देखना यह है कि क्या बायोडाटा के आधार पर पुरंदेश्वरी ठोस निर्णय लेकर कड़ा संदेश देगीं? वे अपने दौरे पर अनुशासन में रहने की नसीहत दे चुकी हैं। हालांकि जानकार मानते हैं कि पार्टी ने पदाधिकारियों पर कार्रवाई नहीं की।

नड्डा को भी शिकायत
युवा मोर्चा की नियुक्तियों में हुई गड़बड़ी की शिकायत कार्यकर्ताओं और दावेदारों ने न सिर्फ प्रदेश प्रभारी बल्कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी की है। जिस पर उन्हें प्रदेश अध्यक्ष से जानकारी मांगी है। नड्डा भी प्रदेश दौरे पर आएंगे, तो निश्चित है कि वे पार्टी नेतृत्व से सवाल तो करेंगे ही। क्योंकि पार्टी नेतृत्व के विरुद्ध भी ढेरों शिकायतें उन तक पहुंची हैं।

महंगी पार्टी की लत ने डाला दोस्ती में दरार, क्राइम पेट्रोल देखकर बनाया मर्डर का प्लान और कर दी हत्या

दबाव में हुई मोर्चा में नियुक्तियां- पार्टी सूत्रों की मानें तो युवा मोर्चा में हुई अधिकांश नियुक्तियां दबाव में हुईं। कई भाजपा जिला अध्यक्षों ने बताया कि युवा मोर्चा के जिला अध्यक्षों की नियुक्तियों को लेकर उनसे राय-मशविरा तक नहीं किया गया था, जो अब तक प्राथमिकता में रहा है।

युवा नेता मनीष ने गलत नहीं उठाई थी आवाज
बीते दिनों भाजपा के एक युवा नेता मनीष ने पार्टी मुख्यालय के बाहर आत्मदाह की चेतावनी दी थी। युवा मोर्चा के वॉटसऐप ग्रुप में मनीष ने लिखा था कि जिन्हें जिला अध्यक्ष बनाया गया और प्रदेश कार्यकारिणी में शामिल किया है उनकी 10वीं की मार्कशीट सार्वजनिक की जाए। ये सब दोहरी नीति है, बर्दाश्त नहीं है...। दरअसल, मनीष ने गरियाबंद जिला अध्यक्ष पद की दावेदारी की थी, 35 साल से अधिक उम्र वाले को पद दे दिया गया।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned