संस्कृत साहित्य में जनजातीय संस्कृति पर राष्ट्रीय संगोष्ठी 21 से, छत्तीसगढ़ के पेंड्रा रोड में जुटेंगे विद्वान

संगोष्ठी के उद्घाटन समारोह 21 फरवरी को सुबह 10.30 बजे से परमानंद संस्कृत उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गोरखपुर पेंड्रा रोड में होगा। इस सत्र की अध्यक्षता छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह करेंगे जबकि मुख्य अतिथि फग्गन सिंह कुलस्ते केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री होंगे और विशिष्ट अतिथि केन्द्रीय जनजाति विकास राज्यमंत्री रेणुका सिंह रहेंगी।

Shiv Singh

February, 1411:39 PM

रायपुर. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक और ऊं अखंड राष्ट्रधर्म संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में संस्कृत साहित्य में जनजातीय संस्कृति विषय तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन परमानंद संस्कृत उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गोरखपुर पेंड्रा रोड बिलासपुर में किया जा रहा है। संगोष्ठी में मुख्य रूप से संस्कृत साहित्य में विभिन्न रचनाकारों की रचनाओं में चित्रित जनजातीय संस्कृति,राष्ट्रीय एकीकरण में जनजातीय समाज का योगदान,जनजातीय संस्कृति की चुनौतियां व समाधान,हिन्दी साहित्य में जनजातीय संस्कृति जैसे कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की जाएगी। संगोष्ठी संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार द्वारा संपोषित है।
तीन दिन चलने वाली इस संगोष्ठी का समापन २३ फरवरी को सुबह 11.30 बजे से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक में होगा। इस सत्र में स्वामी शुद्धात्मानंद जी महराज राम कृष्ण विवेकानंद सेवा संस्थान अमरकंटक,स्वामी परमानंद जी महराज ऊं अखंड राष्ट्रधर्म संस्थान का प्रेरक संबोधन होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजाति विश्वविद्यालय अमरकंटक के कुलपति प्रोफेसर प्रकाश मणि त्रिपाठी करेंगे जबकि मुख्य अतिथि प्रदीप जोशी सदस्य संघ लोक सेवा आयोग भारत सरकार होंगे और इस सत्र के मुख्य वक्ता नंद कुमार साय अध्यक्ष राष्ट्रीय जनजाति आयोग नई दिल्ली होंगे। राष्ट्रीय संगोष्ठी के संयोजक डॉ.विजय कर्ण ने बताया कि इस आयोजन में बिलासपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर जीडी शर्मा, पंडित सुंदर लाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बीजी सिंह, नार्थ ईस्ट हिल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर एसके श्रीवास्तव, एमबीबी विश्वविद्यालय अगरतला त्रिपुरा के कुलपति प्रोफेसर सत्यदेव पोद्दार, श्री कामेश्वर संस्कृत विश्वविद्यालय दरभंगा के कुलपति प्रोफेसर सर्व नारायण झा, महात्मा गांधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय मोतीहारी के कुलपति प्रोफेसर संजीव कुमार शर्मा, पंडित रवि शंकर शुक्ल यूनिवर्सिटी रायपुर के कुलपति प्रोफेसर केएल वर्मा समेत देश के प्रमुख विश्वविद्यालयों के कुलपति,प्रख्यात शिक्षाविद्,सामाजिक कार्यकर्ता,सांसद और पूर्व सांसद भी अतिथि के रूप में उपस्थित होकर विचार-विमर्श करेंगे। कार्यक्रम में जनजातीय लोक गायन आदि की प्रस्तुति की जाएगी।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned