अब नए आधुनिक एटीसी टावर से रायपुर में रखी जायेगी अंतर्राष्ट्रीय विमानों पर भी नजर,जल्द होगा निर्माण कार्य पूरा

अब नए आधुनिक एटीसी टावर से रायपुर में रखी जायेगी अंतर्राष्ट्रीय विमानों पर भी नजर,जल्द होगा निर्माण कार्य पूरा

Deepak Sahu | Updated: 01 Apr 2019, 04:34:55 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

30 करोड़ रुपए की लागत से निर्माणाधीन इस टॉवर में राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की मॉनिटरिंग के मद्देनजर कई हाइटेक मशीनें स्थापित की जा रही है।

अजय रघुवंशी@रायपुर. स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट माना में गगनचुंबी एटीसी टॉवर से अब विमानों की निगरानी होगी। जून तक नए एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) टॉवर का निर्माण पूरा होगा। इस टॉवर के जरिए अब दोगुनी ऊंचाई से हवाई उड़ानों की मॉनिटरिंग होगी। वर्तमान में संचालित एटीसी टॉवर की ऊंचाई २० मीटर है, वहीं नए एटीसी टॉवर की ऊंचाई 40 मीटर होगी। 30 करोड़ रुपए की लागत से निर्माणाधीन इस टॉवर में राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय उड़ानों की मॉनिटरिंग के मद्देनजर कई हाइटेक मशीनें स्थापित की जा रही है, जिसके जरिए एटीसी टीम आधुनिक तरीके से राडार पर विमानों की ताजा स्थिति का सटीक अध्ययन कर पाएंगे। यह उम्मीद जताई जा रही है कि नए एटीसी टॉवर के शुरू होने के बाद माना एयरपोर्ट से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के रास्ते खुलेंगे, क्योंकि तब माना एयरपोर्ट अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए आधुनिक राडार सिस्टम के साथ काम करने में भी सक्षम होगा। इस संबंध में माना एयरपोर्ट के अधिकारियों ने बताया कि निश्चित तौर पर नए एटीसी टॉवर के निर्माण और यहां से परिचालन शुरू होने के बाद राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनियां आकर्षित होंगी, वहीं नई उड़ानों को लेकर संभावनाएं बढेंगी। एटीसी टॉवर का निर्माण लगभग ८० फीसदी पूरा हो चुका है। जून तक निर्माण अवधि का लक्ष्य पूरा होगा।

यात्रियों की संख्या में 31.7 फीसदी वृद्धि

एक साल के भीतर यात्री इजाफे में माना एयरपोर्ट ने देश के अन्य 24 घरेलू एयरपोर्ट को पीछे छोड़ा दिया है। एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया की रिपोर्ट पर गौर करें तो माना एयरपोर्ट माना एयरपोर्ट में सबसे ज्यादा 31.7 फीसदी ग्रोथ दर्ज किया गया है। यह रिपोर्ट बीते वर्ष दिसंबर तक की है, जिसमें एक साल के भीतर माना एयरपोर्ट से कुल 19 लाख 99 हजार 419 यात्रियों ने सफर किया। एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया ने देशभर के 29 एयरपोर्ट की रिपोर्ट जारी की है। एक साल के भीतर यात्रियों की संख्या में इतना बड़ा इजाफा पहली बार देखा गया। एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया की ओर से अप्रैल महीने में वित्तीय वर्ष 2018-19 और 2019-20 की रिपोर्ट जारी की जाएगी।

पुराने से नहीं होगा कम, नए टॉवर में एडीएसबी सिस्टम
नए टॉवर का परिचालन शुरू होने के बाद पुराने एटीसी टॉवर से काम नहीं होगा। बल्कि नए टॉवर में ऑटोमेटिक डिपेंडेंट सर्विलांस ब्रांडकॉस्ट (एडीएसबी) सिस्टम के अंर्तगत काम होगा, जिसके लिए एयरपोर्ट अथारिटी ऑफ इंडिया से मंजूरी मिल चुकी है। नए एटीसी टॉवर का निर्माण पूरा हो जाने के बाद पुराने टॉवर की मशीनों का उपयोग बंद कर दिया जाएगा। नए टॉवर में सभी विभाग नए एटीसी टॉवर में संबंधित सभी विभागों की शिफ्टिंग होगी। यहां 3 मंजिला इमारत का भी निर्माण किया जा रहा है।

टॉवर के साथ अन्य विभाग भी
यहां एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम के साथ ही मौसम विभाग, एयरोड्रम कमेटी चैंबर, रेस्टोरेंट, कंट्रोलिंग यूनिट, पॉवर स्टेशन आदि की शिफ्टिंग होगी। अधिकारियों का कहना है कि इन विभागों की शिफ्टिंग एटीसी टॉवर में होने की वजह से कंट्रोलिंग में आसानी होगी, वहीं विमानों की निगरानी बेहतर तरीके से हो सकेगी।

नए एटीसी टॉवर का परिचालन इसी वर्ष शुरू कर दिया जाएगा, जिसके बाद माना एयरपोर्ट का नाम उन एयरपोर्ट की श्रेणी में शामिल हो जाएगा, जहां अत्याधुनिक उपकरणों विमानों की निगरानी की जा रही है। इससे नई उड़ानों को लेकर संभावनाएं बढ़ेगी।
राकेश सहाय, निदेशक, स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट माना, रायपुर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned