एनएचएम कर्मी बोले- वॉलेंटियर के तौर पर सेवा देंगे, एमडी बोलीं- प्रावधान नहीं

हड़ताल से स्वास्थ्य सेवा प्रभावित: टेस्टिंग 20 से घटकर 11-12 हजार पहुंची

By: VIKAS MISHRA

Updated: 22 Sep 2020, 01:52 AM IST

रायपुर. प्रदेश में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के 13,000 कर्मचारी शनिवार से हड़ताल पर हैं। इनकी हड़ताल का सबसे ज्यादा प्रभाव कोरोना से जुड़ी गतिविधियों पर पड़ रहा है। जिनमें सैंपलिंग और टेस्टिंग शामिल हैं। मगर, न तो कर्मचारी झुकने तैयार हैं न सरकार। अब तो दोनों के बीच तनाव और बढ़ गया है। हड़ताली कर्मचारियों की तरफ से एनएचएम की मिशन संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला को पत्र लिखा। जिसमें उल्लेख है- कोरोना मरीजों के इलाज में कोई बाधा न आए, हम सेवा देने तैयार हैं। मगर, वॉलेंटियर के तौर पर। हम इसके एवज में कोई वेतन/शुल्क नहीं लेंगे। इसके जवाब में डॉ. प्रियंका ने पत्र लिखा- इस प्रकार का कोई प्रावधान नहीं है।
मिशन संचालक ने पत्र में यह भी साफ कर दिया है कि कोरोना महामारी काल में हड़ताल करना अपराध है। चेतावनी के साथ कर्मचारियों को कहा है कि वे काम पर लौंटे। एनएचएम कर्मचारी संघ के प्रांताध्यक्ष हेमंत सिन्हा का कहना है कि एक तरफ स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव काम पर लौटने की बात कहते हैं, तो दूसरी तरफ अधिकारी कार्रवाई की धमकी। हम आज भी सेवा देने तैयार हैं, मगर मांग पूरी न होने तक सेवा का कोई पारिश्रमिक नहीं लेंगे। जानकारों का मानना है कि अगर जल्द हड़ताल खत्म नहीं हुई, या फिर एनएचएम ने कोई वैकल्पिक रास्ता न निकाला तो मुश्किलें बढ़ सकती हैं। क्योंकि जितनी ज्यादा सैंपलिंग, टेस्टिंग होगी उतने ज्यादा संक्रमितों की पहचान होगी। संक्रमण को रोकने में सफलता मिलेगी।
सैंपलिंग और टेस्टिंग कम तो पॉजिटिव भी कम मिल रहे
कर्मचारियों की हड़ताल का असर स्वास्थ्य व्यवस्था पर दिखाई देने लगा है। प्रदेश में 19 सितंबर को सिर्फ 13,685 टेस्टिंग की जांच हुई। 20 सितंबर को टेस्टिंग 11,246 पर जा पहुंची। जबकि इसके पूर्व तक रोजाना 19-20 हजार सैंपल की जांच हो रही थी। अब जब सैंपलिंग कम होगी, टेस्ट कम लगेंगे तो स्वाभाविक है कि पॉजिटिव भी कम मिलेंगे। स्वास्थ्य विभाग की डेली बुलेटिन रिपोर्ट बता रही है कि 19 सितंबर को 2,617 संक्रमित मिले, जबकि उसके पहले तक आंकड़ा 3,000 से अधिक जा रहा था। 20 सितंबर को तो मिलने वाले संक्रमितों की संख्या 1,949 रही।

VIKAS MISHRA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned