ट्रैफिक सुधार: चालान ही नहीं, जागरूक भी कर रही रायपुर पुलिस

रायपुर ट्रैफिक पुलिस यातायात नियम तोडऩे वालों के खिलाफ केवल चालानी कार्रवाई ही नहीं कर रही है, बल्कि लोगों को जागरूक करने के लिए 10 अभियान और प्रयास भी किए हैं। इससे आम लोगों में जागरुकता भी आए, ताकि शहर की ट्रैफिक व्यवस्था बेहतर और व्यवस्थित किया जा सके।

By: narad yogi

Published: 14 Mar 2020, 09:36 PM IST

रायपुर.

रायपुर ट्रैफिक पुलिस यातायात नियम तोडऩे वालों के खिलाफ केवल चालानी कार्रवाई ही नहीं कर रही है, बल्कि लोगों को जागरूक करने के लिए 10 अभियान और प्रयास भी किए हैं। इससे आम लोगों में जागरुकता भी आए, ताकि शहर की ट्रैफिक व्यवस्था बेहतर और व्यवस्थित किया जा सके। उल्लेखनीय है कि रायपुर में ट्रैफिक समस्या की मुख्य वजह वाहन चालकों की लापरवाही और यातायात नियमों की अनदेखी है। इसके चलते बार-बार जाम की स्थिति निर्मित होती है। साथ ही सड़क हादसे भी अधिक होते हैं। इससे असमय मरने वालों की संख्या साल दर साल बढ़ती जा रही है। इससे निपटने के लिए रायपुर पुलिस जागरूकता अभियान के साथ ही कार्रवाई पर भी फोकस कर रही है।
जागरूकता की जरूरत

यातायात पुलिस की ओर से आम लोगों को जागरूक करने के लिए हर हेड हेलमेट से लेकर ट्रैफिक सियान नियुक्त करने तक कई प्रयोग किए गए। इससे लोगों को ट्रैफिक नियमों के बारे में जानकारी तो हुई, लेकिन इसके पालन को लेकर प्रयास कम हुए। इसके बावजूद पुलिस लगातार ऐसे प्रयोग कर रही है। पुलिस का झांकी विसर्जन और हर हेड हेलमेट को काफी सराहा गया। इसके अलावा टै्रफिक सियान को लेकर भी लोगों में काफी सकारात्मक असर हुआ है।

पुलिस के इन अभियान व प्रयासों को मिली सराहना

-हर हेड हेलमेट अभियान - 25 हजार से अधिक हेलमेट का नि:शुल्क वितरण
-गणेश विसर्जन में हेलमेट पर बनी झांकी का प्रदर्शन- 50 हजार लोगों ने देखा

-चौराहों के स्टॉप लाइन पर गाड़ी रोकने स्मार्ट स्टापिंग सिस्टम बनाया
-ट्रैफिक नियमों पर आधारित एक हजार किताबों का स्कूलों में वितरण

-ट्रैफिक जॉकी के माध्यम से ट्रैफिक सिग्नलों पर अनाउंसमेंट
-चौराहों में सड़क पर रात में एलईडी लगाना

-ट्रैफिक जवानों को लाइट वाली जैकेट का वितरण
-टै्रफिक सियान के माध्यम से नियमों का पालन कराना

-शार्ट फिल्म बनाकर ट्रैफिक नियमों का पालन का संदेश
-ई-चालान शुरू करना

-10 आदर्श चौराहा घोषित करके नियमों का पालन कराना

हेलमेट जरूरी : 400 से अधिक की सड़क हादसे में मौत

जनवरी से दिसंबर 2019 तक रायपुर जिले में सबसे ज्यादा सड़क हादसे हुए हैं। शहरी और ग्रामीण इलाके में कुल 2146 सड़क हादसे हुए। इनमें से 1581 लोग घायल हुए और 458 की मौत हो गई। मरने वाले अधिकांश लोग दोपहिया सवार हैं और बिना हेलमेट के सफर कर रहे थे। साथ ही शहर से निकले हाइवे और रिंग रोड में सबसे ज्यादा सड़क हादसे हुए हैं।
सख्ती भी कर रही पुलिस

ट्रैफिक पुलिस ने जागरूकता अभियान के साथ ही नियम तोडऩे वालों के खिलाफ सख्ती भी शुरू कर दी है। पिछले एक माह से 10 आदर्श चौराहों पर लगातार कार्रवाई का अभियान चलाया जा रहा है। खासकर हेलमेट नहीं पहनने वालों के खिलाफ। इसके अलावा स्टॉप लाइन, गलत दिशा और कार में सीटबेल्ट नहीं लगाने वालों को भी टारगेट में लिया है।
वर्सन

कार्रवाई के साथ जागरुकता अभियान भी जरूरी है। रायपुर पुलिस की ओर से ऐसे कई अभियान चलाए जा रहे हैं, जिसमें लोगों को यातायात नियमों के पालन करने की सीख दी जा रही है। आम लोगों की जागरुकता और सहयोग के जरिए ही अभियान सफल होगा।
-सतीश सिंह ठाकुर, डीएसपी ट्रैफिक, रायपुर

narad yogi Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned