scriptNow farmers will be able to do farming with the help of drones | अब ड्रोन की मदद से किसान कर सकेंगे खेती, अब तक कई राज्यों में चल रही ये तकनीक | Patrika News

अब ड्रोन की मदद से किसान कर सकेंगे खेती, अब तक कई राज्यों में चल रही ये तकनीक

देश भर की कई राज्य सरकारें उर्वरक छिड़काव करने वाले ड्रोन विकसित करने के लिए ड्रोन निर्माताओं, किसान उत्पादक संगठनों और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के साथ सहयोग कर रही हैं। राज्य सरकारें राज्य के विश्वविद्यालयों के साथ भी सहयोग कर रही हैं ताकि किसानों को ड्रोन के इस्तेमाल से परिचित कराया जा सके।

रायपुर

Published: August 29, 2022 02:07:15 pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ को अक्सर मध्य भारत का "चावल का कटोरा" कहा जाता है, जिसमें मुख्य फसल धान है। "चावल का कटोरा" होने के साथ-साथ छत्तीसगढ़ सबसे अधिक किसानो वाले राज्यों में से भी एक है। छत्तीसगढ़ के किसान कई वर्षो से किसानी कर रहे है। दुनिया चाहे कितनी भी आधुनिक हो जाये किसानो की म्हणत में कमी नहीं होती। ऐसे ही देश के किसानो के लिए देहभर में ड्रोन स्टार्टअप्स ने अपनी तकनीकी क्षमताओं में सुधार के लिए इस अवसर का लाभ उठाया है। सटीक कृषि प्रौद्योगिकियों को 5% तक उपज बढ़ाने के लिए दिखाया गया है। दो ऑपरेटरों की एक टीम के साथ, ड्रोन प्रति दिन 400,000 पेड़ लगा सकते हैं, और 10 ड्रोन प्रत्येक दिन 400,000 पेड़ लगा सकते हैं। दुनिया भर में भोजन की बढ़ती आवश्यकता के साथ, कृषि उत्पादकता और फसल स्वास्थ्य को बढ़ावा देने का दबाव बना हुआ है, जिससे ज्यादा उत्पादन हो सकता है। भारत प्रमुख कृषि उत्पादकों में से एक होने के साथ, ड्रोन निर्माताओं के लिए अवसर बहुत अधिक हैं।

photo_6079866966354539054_y.jpg

राजस्थान में उपयोग हो रहे ड्रोन
आज की तारीख में राजस्थान में कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग किया जा रहा है, और फसलों पर कृषि रसायनों और पानी में घुलनशील उर्वरकों के छिड़काव में उनके उपयोग के लिए एक कार्य योजना विकसित की गई है। राज्य सरकार का कृषि विभाग ड्रोन के तकनीकी मानकों और सुरक्षा विशेषताओं की जांच कर रहा है। महाराष्ट्र और कई अन्य राज्य भी ड्रोन कंपनियों के साथ सहयोग सहित नई तकनीक को अपनाने की संभावनाओं पर विचार कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में भी इस तकनीक को लाने की आवश्यकता बनी हुई है, ताकि किसानों की म्हणत काम हो सके।

कृषि ड्रोन का बाजार खंडित है
कृषि ड्रोन का बाजार बहुत ही धीमा है, जिसमें कई घरेलू और क्षेत्रीय प्रतिस्पर्धियों के साथ-साथ दुनिया भर की फर्में बाजार में काम कर रही हैं। अपेक्षाकृत उच्च पूंजी आवश्यकताओं और चल रहे आर एंड डी खर्च की आवश्यकता से नए प्रवेशकों को बाधित किया जा सकता है। विभिन्न उद्योगों में उनकी पर्याप्त उपस्थिति के परिणामस्वरूप, उन्हें बाजार के पदाधिकारियों के साथ प्रतिस्पर्धा करनी चाहिए। महिंद्रा समूह अपना उत्पादन बढ़ा रहा है। चेन्नई स्थित गरुड़ एयरोस्पेस, थानोस इंडिया और जनरल एरोनॉटिक्स भी भारत के कृषि ड्रोन बाजार में कुछ प्रसिद्ध नाम हैं।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Operation Chakra: साइबर फ्रॉड को लेकर CBI की देशभर में बड़ी कार्रवाई, 105 ठिकानों पर चल रही छापेमारीUttarakhand News: द्रौपदी का डांडा में हिमस्खल में पर्वतारोहण संस्थान के 29 ट्रेनी बर्फ में फंसे, 8 को रेस्क्यू किया, 21 अभी भी लापतामातम में बदली दुर्गा पूजा की खुशियां, गुजरात के वडोदरा में भीषण सड़क हादसा, 10 लोगों की मौतअमरीका में जनरल बाजवा का राजनाथ सिंह जैसा भव्य स्वागत, भारत के लिए है कितनी चिंता की बात?KCR की नेशनल पार्टी लॉन्चिंग से पहले TRS नेता ने लोगों में बांटी शराब की बोतलें और मुर्गियां, देखिए VIDEOकर्नाटकः दूसरी जाति के लड़के से बेटी ने की शादी, मनाने पर भी नहीं लौटी तो माता-पिता और भाई ने त्याग दिए प्राण'मोदी-मोदी के नारे... खून की नदियां बह जाएगी कहने वालों को जवाब', अमित शाह की रैली में क्या हुआ ऐसा?Jio Book: जियो ने पेश किया अपना पहला और सबसे सस्ता लैपटॉप! जानिये कब से शुरू होगी बिक्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.