सरकार का बड़ा फैसला, अब खुद करेगी 60 साल से अधिक उम्र वाले बुजुर्गों की देखभाल

सरकार ने प्रशामक गृह नाम से देखरेख केंद्र शुरू करने की तैयारी शुरू की है

By: Deepak Sahu

Updated: 19 Jan 2019, 11:46 AM IST

रायपुर. बुजुर्गों की बेहतर देखभाल के लिए सरकार ने प्रशामक गृह नाम से देखरेख केंद्र शुरू करने की तैयारी शुरू की है। समाज कल्याण विभाग ने इसके लिए आदेश जारी कर दिए हैं। बताया जा रहा है कि प्रशामक देख-रेख गृह में 60 साल या उससे अधिक उम्र के ऐसे बुजुर्गों की देखभाल की जाएगी, जिन्हें वृद्धावस्था में गंभीर बीमारी के कारण अपनी सम्पूर्ण दिनचर्या और क्रियाकलाप के लिए बिस्तर पर रहने को बाध्य होना पड़ता है।

देख-रेख गृहों का संचालन समाज कल्याण विभाग से मान्यता प्राप्त गैर सरकारी संगठनों, त्रि-स्तरीय पंचायती राज संस्थाओं अथवा नगरीय निकायों के माध्यम से किया जाएगा। इसपर अनुदान की व्यवस्था भी होगी। त्रि-स्तरीय पंचायतों और नगरीय निकायों को शत-प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा।

ये करेंगे देखरेख
प्रत्येक देखरेख केंद्र में डॉक्टर, अधीक्षक, योग प्रशिक्षक, सामाजिक कार्यकर्ता, नर्स, रसोईया, भृत्य-सह-चौकीदार, स्वीपर और केयर टेकर की नियुक्ति होनी है। इनमें ऐलोपैथिक, आयुर्वेदिक अथवा होम्योपैथिक डॉक्टर रखे जा सकेंगे।

देखरेख केंद्रों में मिलेंगी ये सुविधाएं
देख-रेख गृहों में रहने वाले बुजुर्गों को चाय-नाश्ता, भोजन, वस्त्र, तेल, साबुन, इलाज और दवाइयों आदि की सुविधाएं मिलेंगी। उनके लिए वहां मनोरंजन, खेल, पत्र-पत्रिकाओं के साथ टेलिविजन की भी व्यवस्था रहेगी। उनके लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाएगा। प्रत्येक बुजुर्ग के लिए अलग बिस्तर, पलंग और मच्छरदानी की व्यवस्था की जाएगी। नियमित स्वास्थ्य परीक्षण होगा। एक बगीचे की भी व्यवस्था होगी।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned