डीजीपी स्कॉलरशिप योजना में आ रही अड़चने, भूले मोबाइल नंबर लेना

- डीजीपी डीएम अवस्थी ने प्रदेश पुलिस विभाग में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारियों के मेधावी बच्चों के लिए डीजीपी स्कॉलरशिप योजना शुरू की है लेकिन वर्तमान में हो रही परेशानी के बाद अब प्रदेश के सभी जिलों से पीएचक्यू ने छात्रों और परिजनों के नंबर मांगे है।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 01 Oct 2020, 07:07 PM IST

बिलासपुर. प्रदेश में पुलिस कर्मचारियों के बच्चों के लिए शुरू की गई डीजीपी स्कॉलरशिप योजना को पूरा करने में पीएचक्यू लगातार गड़बड़ी करता आ रहा है। शिक्षा सत्र शुरू होने को कुछ दिन ही शेष है और योजना के तहत मेधावी विद्यार्थियों को अब तक स्कॉलरशिप नहीं मिली है। पीएचक्यू ने योजना के तहत अब विद्यार्थियों और उनके परिजनों के मोबाइल नंबर जिला मुख्यालयों से मांगे हैं।

गौरतलब है कि डीजीपी डीएम अवस्थी ने प्रदेश पुलिस विभाग में कार्यरत अधिकारी और कर्मचारियों के मेधावी बच्चों के लिए डीजीपी स्कॉलरशिप योजना शुरू की है। योजना के तहत 10 वीं बोर्ड परीक्षा में 85 और 12 वीं में 80 फीसदी या इससे अधिक अंक से उत्तीर्ण होने वाले विद्यार्थियों को राशि दी जानी है। इसके साथ ही स्नॉतक और स्नॉतकोत्तर के विद्यार्थियों को भी योजना का लाभ दिया जाना है। 10 वीं परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो चुकी है। साथ ही १२वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों ने भी कॉलेज और अन्य संस्थानों में प्रवेश ले लिया है। इसके बाद भी अब तक योजना का लाभ विद्यार्थियों को नहीं मिल रहा है। इसी बीच पीएचक्यू स्थित सहायक पुलिस महानिरीक्षक (कल्याण) ने प्रदेश के सभी पुलिस इकाइयों को पत्र जारी कर पूर्व में भेजी गई विद्यार्थियों की सूची में मोबाइल नंबर नहीं होने के कारण विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों के नंबर तय प्रोफार्मा में पीएचक्यू भेजने या ईमेल एआईजीएसीटी6602001एटदीरेट जीमेल डॉट कॉम पर भेजने के निर्देश दिए हैं।

एसआई, सूबेदार, उपनिरीक्षक, प्लाटून कमांडर, आरक्षक भर्ती के लिए हुआ भर्ती शाखा का गठन डीजीपी डीएम अवस्थी ने प्रदेश में आरक्षक संवर्ग, सूबेदार, उपनिरीक्षक, प्लाटून कमांडर और अन्य पदों पर भर्ती के लिए डीजीपी डीएम अवस्थी ने पीएचक्यू में अलग सेभर्ती शाखा का गठन किया है। पीएचक्यू में प्रशासन विभाग में पदस्थ अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के अधीन भर्ती शाखा को रखा गया है। भर्ती शाखा में सहायक पुलिस महानिरीक्षक राजेश अग्रवाल, निरीक्षक एलएम सेन, उपनिरीक्षक आरके सिंह, उपनिरीक्षक दिलीप राजपूत और ठीईओ पीएचक्यू अजीत कुमार नायक को शामिल किया गया है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned