142 सैंपल की जांच में मिल रहा है एक कोरोना मरीज, जबकि 1.50 लाख श्रमिकों में से 22 हजार की ही हुई जांच

अब तक 1.52 लाख श्रमिकों की वापसी हो चुकी है। इनमें से करीब 22 हजार के ही सैंपल लिए गए हैं। अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगर सभी की जांच होती है तो कितने संक्रमित लोग निकलेंगे। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की शत प्रतिशत लोगों की सैंपलिंग नहीं कर सकती।

By: Karunakant Chaubey

Published: 24 May 2020, 05:44 PM IST

रायपुर. प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। यही वजह है कि स्वास्थ्य विभाग 14 मई (श्रमिकों की जांच रिपोर्ट आनी शुरू हुई) से प्रदेश में कोरोना की वापसी मान रहा है और इसे फेज२ कहा जा रहा है। इसका प्रमाण है ये आंकड़े। 'पत्रिका, पड़ताल मे सामने आया कि 11 मई से श्रमिकों की वापसी शुरू हुई और 12 मई से इनकी सैंपलिंग शुरू हुई। तब से लेकर 23 मई तक 22424 संदिग्धों की सैंपलिंग हुई है, जिनमें 98 प्रतिशत श्रमिक हैं। इस बीच 157 संक्रमित मरीज मिले हैं। गणना के अनुसार प्रति 142 लोगों में एक व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि हो रही है। ये आंकड़े सरकार की परेशानियां बढ़ा रहे हैं।

उधर, अब तक 1.52 लाख श्रमिकों की वापसी हो चुकी है। इनमें से करीब 22 हजार के ही सैंपल लिए गए हैं। अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगर सभी की जांच होती है तो कितने संक्रमित लोग निकलेंगे। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की शत प्रतिशत लोगों की सैंपलिंग नहीं कर सकती। अफसरों का कहना है कि सिर्फ लक्षण और हल्के लक्षण वालों के ही सैंपल लिए जाएंगे। जानकारों का मानना है कि जैसे-जैसे सैंपलिंग और जांच होगी, यह आंकड़ा काफी आगे तक जाएगा। अभी तो बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों में हमारे राज्य के श्रमिक फंसे हुए हैं, तो देश-विदेश में हजारों लोग हैं जो लौटना चाहते हैं।

मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट में बताए गए थे 60 हजार मरीज-

'पत्रिका' ने 2 मई को 'राज्य में अगले 6-8 माह में 60 हजार कोरोना संक्रमित मरीज होने का अनुमान शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। पं. जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के कम्यूनिटी मेडिसीन विभाग की इस रिपोर्ट को कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर की कोर कमेटी के समक्ष रखा गया था। जिसमें देश-दुनिया में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या पर अध्ययन कर निष्कर्ष निकाला गया था कि छत्तीसगढ़ में 60 हजार मरीज हो सकते हैं। यह दावा कितना सटीक साबित होगा, यह आने वाले दिन ही बताएगें। मगर, कोरोना के आंकड़ों ने रफ्तार जरूर पकड़ ली है।

आज पूरे हो रहे हैं तकरीबन 2 हजार श्रमिकों के 14 दिन-

प्रदेश में 11 मई से श्रमिकों की वापसी का सिलसिला शुरू हुआ था, जो लगातार जारी है। 11 मई को आने वाले करीब 2 हजार श्रमिकों के 14 दिन का क्वारंटाइन पीरियड रविवार, 24 मई को पूरा हो रहा है। बताया गया है कि इनमें से भी ठीक हैं, इन्हें सोमवार को घर भेज दिया जाएगा। मगर, इस दिशा-निर्देश के साथ कि इन्हें अगले 14 दिनों तक घरों में रहना है। अगर सर्दी, जुकाम और खांसी की शिकायत होती है तत्काल 104 और नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाकर जांच करवानी है।

सरकार क्वारंटाइन सेंटर की क्षमता 6.84 लाख लोगों की

प्रदेश सरकार ने हर ब्लॉक स्तर पर ग्राम स्तर पर क्वारंटाइन सेंटर का निर्माण करवाया है। अब तक 18730 सेंटर बनाए गए हैं, जो श्रमिकों के लिए हैं। इनकी क्षमता 682242 लोगों को रखने की है। क्या इतने लोग आएंगे? हालांकि जानकारी के मुताबिक तकरीबन 1 से 1.50 लाख और श्रमिकों की वापसी होगी। वहीं, दूसरी तरफ 44184 यात्री/व्यक्ति क्वारंटाइन सेंटर में हैं।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned