चिल्हर बाजारों में जमकर मुनाफाखोरी, थोक में 48 रुपए और चिल्हर में 80 रुपए किलो तक बिक रहा प्याज

थोक बाजार में बेहतर क्वालिटी के प्याज की कीमतें (Onion price) न्यूनतम 50 से घटकर 48 रुपए प्रति किलो पर आ चुकी है, लेकिन चिल्हर बाजार में मुनाफाखोरी की वजह से ग्राहकों को थोक की कीमतों का फायदा नहीं मिल पा रहा है।

By: Bhawna Chaudhary

Published: 27 Oct 2020, 09:17 AM IST

रायपुर. थोक बाजार में बेहतर क्वालिटी के प्याज की कीमतें (Onion price) न्यूनतम 50 से घटकर 48 रुपए प्रति किलो पर आ चुकी है, लेकिन चिल्हर बाजार में मुनाफाखोरी की वजह से ग्राहकों को थोक की कीमतों का फायदा नहीं मिल पा रहा है। राजधानी के भनपुरी थोक बाजार में थोक की कीमतों में प्याज बिक्री की शुरूआत की गई है, लेकिन शहर के 95 फीसदी इलाकों में चिल्हर में मुनाफाखोरी हावी है। चिल्हर बाजार में यह कीमतें 60,70 और 80 रुपए पहुंच चुकी है।

सोमवार को थोक बाजार में प्याज की कीमतें 48 से लेकर 55 रुपए प्रति किलो में बिकी। इसलिए कीमतें घटी थोक कारोबारियों का कहना है कि बाजार के गणित के मुताबिक प्याज की बिक्री में जबरदस्त गिरावट की वजह से अब कीमतें निचले स्तर की ओर है। प्याज की औसत क्वालिटी की कीमत 38 से 40 रुपए के बीच है, भनपुरी के थोक कारोबारियों का कहना है कि ग्राहकों के लिए बेहतर क्वालिटी के प्याज का पैकेट तैयार किया गया है। बिक्री कम होने की वजह से महाराष्ट्र और आंध्रप्रदेश से प्याज की आवक सामान्य से कम बनी हुई है।

जरूरत पड़ी तो पीडीएस दुकानों से भी बिकेगा प्याज
राजधानी की थोक आलू-प्याज दुकानों में स्टॉल खोल दिए गए हैं। ज्यादा जरूरत पड़ने पर जिले के 133 राशन दुकानों से भी प्याज की बिक्री शुरू की जा सकती है। हालांकि अभी ऐसे स्थिति नहीं है, लेकिन प्रशासन ने इसके लिए तैयारी कर ली है।
सोमवार को सिर्फ भनपुरी में 22 फुटकर स्टॉल संचालित हैं, जिनमें 48 से 55 रुपए की दर से प्याज बेचा जा रहा है। चौंकाने वाली बात यह है कि रोज की अपेक्षा खपत महज 30 1 फीसदी ही है, फिर भी फुटकर प्याज । का रेट 48 से 55 रुपए चल रहा है। व्यापारियों का कहना है कि नवरात्रि के कारण अभी मांग कम इसलिए कीमत स्थिर है। मंगलवार से मांग में तेजी आने से कुछ इजाफा होने की संभावना है।

आम दिनों में 300 टन खपत, अभी कम
रायपुर में रोज 300 टन की आवक है। आम दिनों में 280 टन से ज्यादा की खपत भी है। लेकिन अभी 100 टन के करीब प्याज की खपत हो रही है। आमतौर पर दुर्गापूजा के दौरान प्याज की मांग,खपत और दाम तीनों ही कम हो जाते हैं लेकिन इस बार नवरात्रि के दिनों में भी प्याज के दाम 45 रुपए से अधिक हैं, लगातार बढ़ रही प्याज की कीमत ने आम आदमी की रसोई का बजट बिगाड़ दिया है।

अभी हालात काबू में हैं। यदि स्थिति बिगड़ती है तो प्रशासन निबटने की लिए तैयार है। जरूरत पड़ी तो पीडीएस दुकानों से भी प्याज की बिक्री करवाई जाएगी।
डॉ. एस.भारतीदासन, कलेक्टर, रायपुर

Show More
Bhawna Chaudhary
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned