100 संदिग्धों की जांच में मिल रहे 7 कोरोना पॉजिटिव, आधी रह गई संक्रमण दर

'पत्रिका' पड़ताल में सामने आया कि 1 से 11 नवंबर तक कुल 2,59,194 सैंपल की जांच हुई। यानी हर दिन औसतन 23,563 जांचें गए। इनमें 18,653 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हर दिन औसतन 1,695 मरीज मिले। अगस्त में यह दर 2,200 के करीब, सितंबर में 2,747 और अक्टूबर में 2,376 रही।

By: Karunakant Chaubey

Published: 13 Nov 2020, 08:14 PM IST

रायपुर. प्रदेश में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से नीचे आ रहा है। अगस्त, सितंबर में कोरोना अपने चरम पर था। अक्टूबर के दूसरे हफ्ते से जो गिरावट दर्ज होनी शुरू हुई, वह जारी है। अगस्त और सितंबर में 100 संग्दिधों की जांच में 13-14 में कोरोना वायरस की पुष्टि हो रही थी। मगर, अब यह दर गिरकर आधी रह गई है। नवंबर के शुरुआती 11 दिनों के आंकड़े बताते हैं कि 100 सैंपल जांच में ७ ही पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। यह राहत के आंकड़े हैं।

'पत्रिका' पड़ताल में सामने आया कि 1 से 11 नवंबर तक कुल 2,59,194 सैंपल की जांच हुई। यानी हर दिन औसतन 23,563 जांचें गए। इनमें 18,653 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हर दिन औसतन 1,695 मरीज मिले। अगस्त में यह दर 2,200 के करीब, सितंबर में 2,747 और अक्टूबर में 2,376 रही। बता दें कि छत्तीसगढ़ में सितंबर में कोरोना पीक पर था। उसके बाद से संक्रमण का ग्राफ उतरना शुरू हुआ। हालांकि राज्य स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का मानना है कि नवंबर के तीसरे हफ्ते या उसके बाद कोरोना की एक और लहर आ सकती है। यानी एक और पीक आ सकता है।

लोगों की सुरक्षा व कोरोना से बचाव के लिए पुलिस की पहल, सीसीटीवी कैमरे व लाउडस्पीकर लगवाए

संक्रमण दर घटने का वजहें-

1- मरीजों में वायरस लोड का कम मिलना। यही वजह है कि एक साथ रहने के बावजूद दूसरे में संक्रमण अब नहीं या फिर बहुत कम फैल रहा है।

2- मरीजों को स्वस्थ होने में पहले 15 दिन तक लग रहे थे, अभी 5-7 दिन में मरीज ठीक हो जा रहे हैं।

3- ऐसी भी संभावना है कि लोगों में एंटीबॉडी विकसित हो गया है, जो संक्रमण के खतरे को कम रहा है। मरीज स्वयं से ठीक हो जा रहे हैं।

नवंबर में अब तक 357 मौतें

सितंबर, अक्टूबर की तरह ही नवंबर में भी मौतों का सिलसिला जारी है। नवंबर के 11 दिनों में 357 जानें जा चुकी हैं। हर रोज औसतन 32 मौतें। हालांकि अक्टूबर में दर 35 मौतें प्रतिदिन तक आंकड़ा पहुंचा था। रायपुर, दुर्ग, रायगढ़, कोरबा, बिलासपुर, जांजगीर चांपा ऐसे जिले हैं जहां कोरोना ने सर्वाधिक जानें लीं।

रायपुर में मरीज कम, मौतें भी कम

अगस्त, सितंबर और अक्टूबर के शुरुआती 5-7 दिन में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित राजधानी रायपुर में रिपोर्ट हुए। लगातार कई दिनों तक आंकड़ा 1000 मरीज प्रतिदिन तक दर्ज होता रहा। मौतें भी हुईं। मगर, अब रोजाना 150 के करीब मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं, मौतें भी 1-2 ही हो रही हैं। जो राहत की खबर है। मगर, रायगढ़, जांजगीर चांपा और कोरबा में संक्रमण बढ़ा है।

सैंपलिंग और टेस्टिंग में कोई कमी नहीं की गई है। रोजाना 22-25 हजार टेस्ट हो रहे हैं। संक्रमण में गिरावट आई है। मगर, जिस तरह से अभी बाजार में जो हालात हैं वह बहुत ही चिंताजनक है। जैसे सब बेफ्रिक हैं।

-डॉ. सुभाष पांडेय, प्रवक्ता एवं संभागीय संयुक्त संचालक, स्वास्थ्य विभाग

ये भी पढ़ें: खुशखबरी: सिनेमाघरों व मल्टीप्लेक्स संचालन की सशर्त अनुमति, कंटेनमेंट जोन में छूट नहीं रहेगी

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned