बेमौसम बारिश की भेंट चढ़ गया धान, होना लगा अंकुरित

लोहरसी खरीदी केंद्र में खुले में पड़ा है धान, सुरक्षा की उचित व्यवस्था नहीं

By: dharmendra ghidode

Published: 20 May 2021, 05:30 PM IST

गरियाबंद. जिले में इस साल धान खरीदी केंद्र में कितनी लचर व्यवस्था रही, यह किसी से छुपा नहीं है। बोरे की किल्लत, पैसा का भुगतान सहित विभिन्न प्रकार की समस्याओं से इस वर्ष किसान परेशान थे। वहीं, खरीदी केंद्रों में गड़बड़ाझाला होना आम बात है। साथ ही खरीदी केंद्र में इस साल धान खरीदी बंद हुए लगभग 4 माह हो गया है। इसके बावजूद धान का उठाव नियमित व तय समय में नहीं किया गया। इस वजह से सैकड़ों बोरे धान जिले के कई खरीदी केंद्रों में खुले आसमान के नीचे पड़े हैं।
बीते दिन हुई बारिश से धान के बोरे खरीदी केंद्रों के अव्यवस्था के कारण भीग गए। जिस वजह से धान में अंकुरित आना चालू हो गया है। यही हालत विकासखंड फिंगेश्वर के खरीदी केंद्र लोहारसी का है, जहां खुले आसमान के नीचे पड़े धान के बोरे पूरा पानी भीगने से लगभग सैकड़ों क्विंटल धान मेंंअंकुरित आ गई है। हालांकि उसे खरीदी केंद्र व्यवस्थापक व कर्मचारियों द्वारा सूखा कर भरने की तैयारी में है। धान का बीज अंकुरित हालत में होने से चाहे कितना भी सूखा लिया जाए, वह पहले जैसा नहीं हो सकता ।हालांकि खानापूर्ति के लिए व्यवस्था की ज रही है। समय पर संग्रहण केंद्र नहीं ले जाने की वजह से यह दुर्दशा हुई है।
जिला प्रशासन समय रहते धान का उठाव नहीं किया, जिस वजह से लाखों रुपए की हानि हो रही है। हालांकि इसे कैसे संबंधित विभाग मैनेज करेगा या करते आ रहे हैं। यह उसकी कला होगी जिसे वही लोग समझ सकते हैं। बाहर हाल सही समय पर धान का उठाव नहीं होने से वह खराब हो रहा है पर यह पहला साल नहीं है। इस बारे में व्यवस्थापक संतोष साहू को उनके मोबाइल पर संपर्क किया गया, पर उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

dharmendra ghidode
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned