हर व्यक्ति रोपे पौधा

Gulal Verma

Publish: May, 17 2018 07:47:34 PM (IST)

Raipur, Chhattisgarh, India
हर व्यक्ति रोपे पौधा

वर-वधु ने 'सेमलÓ को साक्षी मान लिए फेरे, पौधों की रक्षा का संकल्प

रायपुर। पेड़-पौधे जिन्दगी के आधार हैं। शुद्ध हवा और पर्यावरण संतुलन के लिए पेड़-पौधे अत्यंत आवश्यक हंै। जंगलों की सुरक्षा और पौधरोपण सभी की महती जिम्मेदारी है। बस्तर ब्लॉक के भोंड गांव में वर-वधु द्वारा 'सेमल वृक्षÓ को साक्षी मान कर फेरे लेकर पौधों की रक्षा का संकल्प लेना और ग्रामीणों द्वारा वनों की सुरक्षा के लिए पूरी पहाड़ी को 'देव-कोठारÓ बनाना प्रदेशवासियों के लिए मिसाल भी है और अनुकरणीय भी। जो लोग अनाधिकृत रूप से पेड़ों को काटते हैं, पौधों को नुकसान पहुंचाते हैं, उनके विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई जरूरी है। उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाना चाहिए। उन्हें सरकारी योजनाओं से भी वंचित किया जाना चाहिए। गैरकानूनी रूप से पेड़ों की कटाई पर कानूनी कार्रवाई का प्रावधान तो है, लेकिन पुलिस और वन अमला कुंभकर्णी नींद सोता नजर आता है।
जंगलों की सुरक्षा के तमाम दावे किए जाते हैं। हर वर्ष करोड़ों रुपए खर्च कर पौधरोपण अभियान बड़े पैमाने पर चलाए जाते हैं। वन महोत्सव भी मनाया जाता है। पौधरोपण अभियान में हर वर्ग के लोग बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हंैं। लेकिन जिम्मेदारी जब रोपे गए पौधों की देखभाल और सुरक्षा की आती है तो सभी आंखें मूंद लेते हैं। पौधों की सुरक्षा की जिम्मेदारी तो संबंधित विभाग के कर्मियों की है मानकर पौधे रोपने वाले निश्चिंत हो जाते हैं। चिंता की बात तो यह है कि सरकार के नुमाइंदे, नौकरशाह, जनप्रतिनिधि, राजनीतिक दलों, संस्थानों-समितियों के पदाधिकारी-कार्यकर्ता अपनी आंखों के सामने सूख रहे पौधों और कट रहे वृक्षों को नहीं बचा पा रहे हैं, तो दूरदराज में उजड़ रहे जंगलों की सुरक्षा के बारे में क्या सोचेंगे?
सर्वविदित है कि प्रदेश के कई इलाकों में पेड़-पौधे लगातार कम होते जा रहे हैं। प्रति वर्ष जंगलों का रकबा तेजी से घट रहा है। बहरहाल, सभी सार्वजनिक, सामाजिक, वैवाहिक व पारिवारिक कार्यक्रमों में पौधरोपण अनिवार्य किया जाना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति पौधा रोपे और पेड़-पौधों की सुरक्षा करे, इसके लिए सरकार को तत्काल कानून बनाना चाहिए।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned