ध्यान दो सरकार, प्रदेश में कोरोना के पेंडिंग सैंपल 3800 के पार

पत्रिका ने प्रमुखता से मुद्दा उठाया तो स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने सोमवार को स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक सिंह के साथ कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के अफसरों की बैठक ली। बैठक में निर्देशित किया गया था कि राजनांदगांव, अंबिकापुर और बिलासपुर मेडिकल कॉलेजों में जल्द से जल्द लैब शुरू की जाए।

By: Karunakant Chaubey

Published: 21 May 2020, 03:39 PM IST

रायपुर. कोरोना संदिग्धों के सैंपल जांच का भार उठा रही प्रदेश की चार प्रमुख कोरोना टेस्टिंग लैब पर बोझ बढ़ता ही जा रहा है। ये दम भरने लगी है। अब अगर ध्यान नहीं दिया गया तो कहीं बहुत देर न हो जाए। स्थिति तय है कि एक तरफ जिलों से सैंपल भेजने की रफ्तार दोगुनी हो गई हो तो दूसरी तरफ जांच की रफ्तार नहीं बढ़ी है। यही कारण है कि अब प्रदेश में जहां पिछले हफ्ते तक 900 सैंपल पेङ्क्षडग जा रहे थे, सोमवार को आंकड़ा 1857 और बुधवार को 3837 हो गया।

पत्रिका ने प्रमुखता से मुद्दा उठाया तो स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने सोमवार को स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक सिंह के साथ कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के अफसरों की बैठक ली। बैठक में निर्देशित किया गया था कि राजनांदगांव, अंबिकापुर और बिलासपुर मेडिकल कॉलेजों में जल्द से जल्द लैब शुरू की जाए। मगर, अभी अभी कहीं शुरूआत नहीं हुई है। पूरा भार एम्स रायपुर, पं. जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कॉलेज रायपुर, स्व. बलीराम कश्यप मेमोरियल मेडिकल कॉलेज जगदलपुर और स्व. लखीराम अग्रवाल मेमोरियल मेडिकल कॉलेज रायगढ़ पर है। पर इनमें भी सर्वाधिक भार एम्स और जगदलपुर की लैबों पर है।

इसके अलावा टीबी जांच करने वाली ट्रूनॉट मशीनों से जांच जारी है तो वहीं एसआरएल लैब भी जांच कर रही है। मगर, इनमें हो रही जांच की संख्या कम है। अगर, जांच की यही रफ्तार रही तो पेंडिंग केस 5 हजार के पार भी पहुंच सकते हैं। बुधवार की रिपोर्ट के मुताबिक एम्स में 2544, जगदलपुर में 1122, रायपुर में 8 और रायगढ़ में 163 जांच पेंडिंग रहीं।

नहीं बढ़ाएंगे जांच की रफ्तार या लैब तो खतरा बढ़ेगा-

विशेषज्ञों का मानना है कि स्वास्थ्य विभाग को ऐसी व्यवस्था करने की जरुरत है कि 24 घंटे के अंदर टेस्ट रिपोर्ट आ जाए, ताकि आगे की कवायद की जा सके। मगर, स्थिति यह है कि रिपोर्ट 3-3 दिन में आनी शुरू हो गई है। वह इसलिए क्योंकि अभी भी लैबों में दो ही शिफ्ट में सैंपल लग रहे हैं। गौरतलब है कि प्रदेश की लैबों में 42566 सैंपल पहुंचे हैं जिनमें से 38619 की रिपोर्ट निगेटिव है। बाकि पेङ्क्षडग जा रहे हैं। यही सबसे बड़ा खतरा हैं।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned