PM मोदी ने CG के स्टार्ट अप उद्यमियों से की बात, हैंडीक्रॉफ्ट को आगे बढ़ाने दिया ये सक्सेस मंत्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्टार्ट-अप और इनोवेशन के लिए काम कर रहे युवाओं से बात की।

By: Ashish Gupta

Updated: 06 Jun 2018, 05:30 PM IST

रायपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्टार्ट-अप और इनोवेशन के लिए काम कर रहे युवाओं से बात की। इस दौरान प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए छत्तीसगढ़ के स्टार्ट-अप उद्यमियों से भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि ऐसे युवाओं से मिलकर उन्हें खुशी हो रही है, जिन्होंने अपने सपने को साकार किया, साथ ही लोगों को रोजगार भी दिया है। भारत के युवा जॉब क्रिएटर बन रहे हैं, यह हम सब के लिए गौरव का क्षण है।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने छत्तीसगढ़ के हस्तशिल्प कला का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हस्तशिल्प क्षेत्र में छत्तीसगढ़ के जनजातीय समुदायों की कला अमूल्य है। मैं छत्तीसगढ़ के इनोवेटर्स से आग्रह करता हूं कि वह इस वैश्विक स्तर पर मशहूर करने के लिए स्टार्टअप के जरिए कुछ रास्ता ढूंढे। हमें छत्तीसगढ़ के आदिवासी समुदायों को वैश्विक मंच देना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने 36आईएनसी के इंक्यूबेटर तथा एप-लॉप के संचालक राहुल सिंघल से बातचीत के दौरान उन्हें छत्तीसगढ़ हैंडीक्रॉफ्ट के लिए मोबाइल-एप बनाने का सुझाव दिया है। छत्तीसगढ़ के स्टार्ट-अप उद्यमी राहुल सिंघल ने बताया कि उनका स्टार्ट-अप कुछ मिनटों में ही मोबाइल-एप का निर्माण कर सकता है। संस्था ने अभी तक 6 लाख से अधिक मोबाइल-एप बनाया जा चुके हैं और 10 हजार से अधिक स्टार्ट-अप की सहायता की जा चुकी है। संस्था ने गुजरात के गुपचुप वाले के लिए भी एप बनाया है, जिससे उनका व्यवसाय निरंतर बढ़ रहा है।

 

छत्तीसगढ़ के 36आईएनसी के सीईओ राजीव रॉय ने बताया कि एक वर्ष से भी कम समय में राज्य के अटल इनोवेशन सेंटर में 43 स्टार्ट-अप उद्यमी जुड़ चुके हैं। इन उद्यमियों के माध्यम से 1700 से अधिक लोगों को रोजगार मिला है।प्रधानमंत्री ने सेंटर के सीईओ राजीव रॉय से पूछा कि प्रदेश का स्टार्ट-अप के लिए किया गया सबसे महत्वपूर्ण कार्य कौन सा है। राजीव रॉय ने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निर्देशों के अनुरूप ग्रामीण क्षेत्र को आधार बनाकर कार्य किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने 36आईएनसी की प्रशंसा करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के ग्रामीण बाहुल्य होने के कारण सेंटर द्वारा किए जा रहे इनोवेशन सही दिशा में कार्य कर रहे हैं। धमधा, रवेलीडीह में संचालित गोवत्स एग्रो एंड फूड इंटरप्राइजेस लिमिटेड के संचालक सीएच कामेशराव ने बताया कि उनकी संस्था 50 किसानों से गोबर तथा गौ-मूत्र क्रय करती है। इससे किसानों की आय बढ़ रही है, और संस्था एग्रो प्रोडक्ट का निर्माण कर अपने व्यवसाय को भी बढ़ा रही है।

हिलिंग एक्सलरेटर संस्था के संचालक ऋतम पाण्डे ने बताया कि छत्तीसगढ़ के 60 स्थानों पर उनकी संस्था के केन्द्र स्थापित किए गए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में निवासरत नॉन-इंटरनेट यूजर इन केन्द्रों से कैंसर, हृदयरोग, क्षय रोग आदि 22 से अधिक गंभीर बीमारियों के लिए ऑनलाइन सलाह प्राप्त कर सकते हैं। इस संस्था से एम्स नई दिल्ली, सी.एम.सी. वैल्लूर, ब्रिज कैंडी मुंबई आदि अस्पतालों के विषय विशेषज्ञ डॉक्टर जुड़े हुए हैं।

कुनोमाइल टेक्नालॉजी प्राइवेट लिमिटेड की सोनाली झा ने बताया कि उनकी संस्था शिक्षा के क्षेत्र में उच्च शिक्षा के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराती है, जिसमें इंजीनियरिंग, मेडिकल सहित सभी विषयों की पठन सामग्री क्लाउड के माध्यम से उपलब्ध है। सेंटर के अनेक इंक्यूबेटरों ने वीडियो कांफ्रेंंस चर्चा में हिस्सा लिया। प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर आईआईएम, बैंगलुरू, देहरादून, गुवाहाटी, गोवा, तमिलनाडु, राजस्थान तथा छत्तीसगढ़ 36आईएनसी से अनेक युवा उद्यमी और स्कूलों के स्टार्टअप से बातचीत की है।

Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned