उद्योगपति सोमानी अपहरणकांड के मास्टरमाइंड का साल भर बाद भी पुलिस को नहीं मिला सुराग

- साल भर पहले हुआ था अपहरण, तलाश भी पुलिस ने की बंद
- चंदन सोनार गिरोह का पप्पू चौधरी है मास्टरमाइंड

By: Bhupesh Tripathi

Published: 12 Feb 2021, 07:00 PM IST

रायपुर। उद्योगपति प्रवीण सोमानी का अपहरण (industrialist praveen Somani) करने वाले गिरोह के मास्टरमाइंड का सुराग पुलिस को अब तक नहीं मिल पाया है। साल भर पहले सोमानी का अपने प्लांट से घर लौटते समय अपहरण कर लिया गया था। करीब पखवाड़े भर बाद पुलिस ने सोमानी को किडनैपरों के चंगुल से छुड़ा लिया था। अपहरण में शामिल आधा दर्जन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन मास्टरमाइंड चंदन सोनार गैंग के पप्पू चौधरी तक अब तक पहुंच नहीं पाएं हैं। पुलिस ने उसकी तलाश भी बंद कर दी है।

क्या था मामला
8 जनवरी 2020 को सिलतरा स्थित अपनी फैक्ट्री से प्रवीण सोमानी घर के लिए रवाना हुए थे। इस दौरान अपहरणकर्ताओं ने उन्हें अपने कब्जे में ले लिया। और उसका अपहरण करके ले गए थे। और पखवाड़े भर बाद रायपुर पुलिस ने सोमानी को यूपी से सकुशल छुड़ा लिया। इस मामले में पुलिस ने अनिल चौधरी, मुन्ना नाहक, कालिया, प्रदीप उर्फ बाबू सहित आधा दर्जन लोगों को गिरफ्तार किया है। लेकिन गिरोह का सरगना पप्पू चौधरी अब तक फरार है। पुलिस उसे पकड़ नहीं पाई है। पप्पू चौधरी अनिल चौधरी का रिश्तेदार था। और वह अपहरण करने से पहले वह रैकी कर चुका था।

बड़ी टीम लगी थी तलाश में
उद्योगपति सोमानी की तलाश में रायपुर पुलिस के 60 से ज्यादा अधिकारी-कर्मचारी लगे हुए थे। और कई दिनों तक बिहार, यूपी में सर्चिंग अभियान चलाया था। इसके बाद भी मुख्य आरोपी पकड़ में नहीं आया। उसका अब तक कुछ जानकारी भी पुलिस को हाथ नहीं लगी है।

सरगना की तलाश भी कर दी बंद
पुलिस ने एक तरह से पप्पू चौधरी की तलाश भी बंद कर दी है। उल्लेखनीय है कि पप्पू ही गिरोह का सरगना है और उसी ने पूरी प्लानिंग के साथ अपहरण की घटना को अंजाम दिया था। सोमानी के सकुशल घर पहुंचे एक साल से अधिक समय हो गया है। इस बीच अपहरणकांड के मुख्य आरोपी का अब तक पता नहीं चल पया है। और न ही उसका कोई सुराग पुलिस के हाथ लगा है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned