छत्तीसगढ़ में कोरोना के एक्टिव मरीज बढ़े: स्वास्थ्य मंत्री का केंद्र को जवाब- भय पैदा न करें

- 'केंद्र सरकार क्यों बोल रही है कि छत्तीसगढ़ में कोरोना बढ़ रहा, आंकड़े तो सबके सामने हैं'
- छत्तीसगढ़ देश का 6वां राज्य जहां सर्वाधिक एक्टिव मरीज, वर्तमान में 3,112 एक्टिव मरीज

By: Ashish Gupta

Published: 22 Feb 2021, 02:03 PM IST

रायपुर. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने महाराष्ट्र, पंजाब, मध्यप्रदेश और केरल के साथ छत्तीसगढ़ में भी कोरोना के मरीजों के बढ़ने के आंकड़े जारी किए हैं। कहा है कि अकेले इन राज्यों में 75 प्रतिशत नए मरीज मिले हैं। तो क्या वास्तव में छत्तीसगढ़ में मरीजों की संख्या बढ़ी है?

'पत्रिका' ने इस पर सीधे स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव (CG Health Minister TS Singhdeo) से बात की। उन्होंने कहा, 'स्वास्थ्य विभाग रोजाना कोरोना के आंकड़े सार्वजनिक कर रहा है। उसमें देखिए कि क्या मरीज इतने ज्यादा बढ़ रहे हैं? केंद्र जो कह रहा है मैं इससे इत्तेफाक नहीं रखता। उन्हें हमारी रिपोर्ट देखनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि हां, मैं इतना जरूर कहूंगा कि कोरोना को लेकर हमें हमेशा सतर्क रहने की जरुरत है। वैक्सीन भले ही आ गई हो, मगर हमेशा नियमों के साथ चलने की आवश्यकता है। केंद्र और राज्य के बीच जारी जुबानी जंग के दरमियान 'पत्रिका' पड़ताल में सामने आया कि राज्य में 11 फरवरी को 3,475 एक्टिव मरीज थे।

16 फरवरी को 2,905 एक्टिव मरीज बचे थे। मगर, 21 फरवरी को इनकी एक बार फिर 3 हजार का आंकड़ा पार करते हुए संख्या 3,112 तक जा पहुंची। स्पष्ट है कि 11 फरवरी से 21 फरवरी के बीच के आंकड़ों में कमी आई है। मगर, 16 से 21 फरवरी के बीच एक्टिव मरीज बढ़े हैं। इन सबके बावजूद राज्य में कोरोना संक्रमण दर 1.1 प्रतिशत पर जा पहुंची है, जो सबसे न्यूनतम है।

क्या इसलिए बोल रहा केंद्रीय मंत्रालय- प्रदेश में 11 से 21 फरवरी तक 2,413 मरीज रिपोर्ट हुए। इस दौरान 2,719 मरीज स्वस्थ हुए। तो क्या केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय रोजाना मिलने वाले मरीजों की संख्या के आधार पर बोल रहा है? संभवता: इसी के आधार पर ही। क्योंकि अन्य राज्यों में रोजाना मिलने वाले मरीजों की संख्या छत्तीसगढ़ के अनुपात में कम है।

इसलिए कह रहा राज्य स्वास्थ्य विभाग- राज्य में इसलिए भी 200-300 के बीच रोजाना मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं क्योंकि अभी भी प्रतिदिन औसतन 21,400 टेस्ट हो रहे हैं। राज्य सरकार ने और टेस्ट बढ़ाने के निर्देश दिए हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच हो सके। राज्य में 10 दिन में मिलने वाले मरीजों की तुलना में स्वस्थ हुए मरीजों की संख्या अधिक है।

50 प्लस उम्र वालों को लगेंगे नि:शुल्क टीके
प्रदेश में 50 साल से अधिक आयुवर्ग को मार्च के अंत से कोरोना के टीके लगने शुरू हो सकते हैं। ये टीके मार्च के अंत से नि:शुल्क लगेंगे। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने कोरोना के लिए 35 हजार करोड़ का बजट स्वीकृत किया है, यह इसलिए ही तो है। टीकाकरण का अगला टास्क चुनौतीपूर्ण होने वाला है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned