तालाब के सौंदर्यीकरण पर निगम ने खर्च किए लाखों, फिर भी पानी के अभाव में मर रही मछलियां

तालाब के सौंदर्यीकरण पर निगम ने खर्च किए लाखों, फिर भी पानी के अभाव में मर रही मछलियां

Deepak Sahu | Publish: Sep, 08 2018 09:37:34 AM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

भरी बरसात में न तो तालाब लबालब हुआ है और न ही तालाब की सफाई निगम ने कराई है

रायपुर. राजधानी का एक और तालाब बरसात में अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। भरी बरसात में न तो तालाब लबालब हुआ है और न ही तालाब की सफाई निगम ने कराई है। जबकि निगम प्रशासन ने पिछले साल २०१७ में सौंदर्यीकरण के नाम पर १२ लाख रुपए खर्च किया था।

इसके पहले भी निगम प्रशासन तालाब सौंदर्यीकरण के नाम पर १० से २० लाख रुपए खर्च कर चुका है। फिर भी तालाब के चारों तरफ किनारे गंदगी पसरी हुई है। तालाब का पानी इतना गंदा है कि हाथ में लेने की इच्छा तक नहीं होती है। आसपास के रहवासियों को मजूबरी के चलते इसी तालाब में अपना निस्तारी करना पड़ रहा है।

बरसाती पानी लाने की व्यवस्था नहीं : राजीव गांधी वार्ड में स्थित फाफाडीह तालाब में चारों तरफ पचरी का निर्माण किया गया है। लेकिन बसात में पचरी आधे से ज्यादा खाली है।

आसपास के लोगों ने बताया कि पहले बरसात में तालाब लबालब रहता है। तालाब पर तक पानी भरा रहता था, लेकिन जब से बरसाती पानी आना बंद हुआ है, तब से तालाब गर्मी में तो पूरी तरह से सूख जाता है। बरसात में ही आसमान से जो पानी तालाब में गिरता है, उसी का ही पानी रहता है। यदि निगम प्रशासन आसपास के इलाकों का बरसाती पानी आने की व्यवस्था करें, तो बरसात में तालाब तो लबालब रहेगा ही साथ ही गर्मी में सूखेगा भी नहीं है।

तालाब पार किनारे अवैध कब्जों की भरमार
लोगों ने बताया कि फाफाडीह तालाब पार किनारे नजूल की जमीन अवैध कब्जे हैं, ये कब्जे कई वर्षों है। इस कारण से भी तालाब में बरसाती पानी नहीं आता है। लोगों ने बताया कि तालाब पार के किनारे पहले कब्जे नहीं थे। बाद में धीरे-धीरे तालाब के चारों तरफ कब्जा होता गया है और तालाब का दायरा भी कम हो गया है। पहले तालाब बहुत बड़ा था। कब्जे नहीं होने से तालाब में आसपास के इलाकों का पानी आसानी से आता था, जब से कब्जे हुए है, तब से पानी ही नहीं आता है। यही कारण है कि बरसात में भी तालाब पानी के लिए तरसता रहता है।

नगर निगम के आयुक्त रजत बंसल ने बताया कि जिन तालाबों में पानी कम है, उनमें इन लेट और आउटलेट की व्यवस्था है। जो तालाब बरसात में नहीं भर पाते हैं, उसके लिए क्या व्यवस्था हो सकती है, इसका सर्वे कराकर व्यवस्था बनाई जाएगी, तालाब में बरसात का पानी भारी मात्रा में आ सके।

Ad Block is Banned