सरकारी राशन नहीं मिलने से गरीब परिवार परेशान

चारों भाइयों के द्वारा संयुक्त खाते में नाम अंकित होने और खाते में साझे के रूप में धान विक्रय के कारण उनका नाम बीपीएल राशन कार्ड से काटा गया है और राशन देने बंद कर दिया गया है।

By: ashok trivedi

Published: 26 May 2020, 05:27 PM IST

गरियाबंद. छुरा विकासखंड के ग्राम फुलझर निवासी एक गरीब परिवार को पिछले चार वर्षों से सरकार चावल नहीं मिल रहा है। यह गरीब परिवार बाजार से महंगे में चावल खरीदकर खाने को मजबूर है। इसके चलते यह परिवार आर्थिक समस्या से जूझ रहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार छुरा मुख्यालय से 25 किमी दूर स्थित ग्राम फुलझर निवासी गरीब परिवार की मुखिया ललिता बाई पति मेघनाथ साहू ने बताया कि चार वर्ष पूर्व राशन कार्ड से नाम काटे जाने की वजह से यह परेशानी निर्मित हुई है।
ललिता ने बताया कि उसके पति मेघनाथ साहू अपने चारों भाइयों के द्वारा संयुक्त खाते में नाम अंकित होने और खाते में साझे के रूप में धान विक्रय के कारण उनका नाम बीपीएल राशन कार्ड से काटा गया है और राशन देने बंद कर दिया गया है, जबकि उनके भाइयों को आज भी राशनकार्ड जारी है और राशन सामग्री प्रदान की जा रही है। राशन कार्ड के लिए वह कई बार जनपद मुख्यालय छुरा और जिला खाद्य विभाग, कलेक्टर गरियाबंद जाकर गुहार लगा चुकी है, लेकिन आज तक राशन कार्ड नहीं बनाया गया है नही उचित मूल्य की दुकान से चावल प्रदान किया जा रहा है। इसके कारण उनका परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा है।
मामले का निपटारा शीघ्र करेंगे
ललिता ने बताया कि उसके पास केवल डेढ़ एकड़ जमीन है, जिसमें एक एकड़ सोधी और बाकी जमीन भर्री है। परिवार रोजी-मंजूरी कर जीवन-व्यापन कर रहा है। वहीं इसकी जानकारी जिला कांग्रेस कमेटी सचिव गजेंद्र साहू को हुई तो उन्होंने मुख्य कार्यपालन अधिकारी छुरा एनआर माझी को फोन लगा कर इस समस्या को हल करने की बात कही। जिस पर सीईओ छुरा ने पता करवा कर मामले को निपटाने की हामी भरी और कहां जल्द पता कर परिवार राशन कार्ड बनाया जाएगा।

ashok trivedi Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned