पीपीई किट की चेन खराब, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता खतरे के बीच जांच रही संक्रमण

- बिना किट पहने जोन- 3 में सर्दी-खांसी, बुखार से पीडि़तों का कर रहीं सर्वे

By: Bhupesh Tripathi

Published: 29 Jun 2020, 06:30 PM IST

रायपुर . आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पीपीई किट देने के नाम पर बड़ा धोखा किया गया है। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए उन्हें वार्ड-वार्ड लोगों के घरों तक पहुंचकर सर्वे में लगा दिया गया है, लेकिन जो किट उन्हें उपलब्ध कराई है, उसकी चेन ही खराब है। इसलिए बिना किट के ही खतरे के बीच आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सर्दी, खांसी, बुखार के पीडि़तों का सर्वे करने निकल पड़ी हैं। शनिवार को जोन-3 में बिना सुरक्षा उपाय के ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को घर-घर दस्तक देते देखा गया है। पूछने पर पता चला कि उन्हें जो किट दी गई है, वह खराब है।

कोरोना संक्रमण शहर में तेजी से बढ़ा है। कई कॉलोनियां और मोहल्ले कंटेनमेंट जोन घोषित किए जा चुके हैं। स्थिति यह है कि शहर का पुरानी बस्ती थाना सील कर दिया गया है। शहर में रोजाना कहीं न कहीं कोरोना पॉजिटिव केस के मामले सामने आ रहे हैं। इसी के बीच नगर निगम के सभी वार्डों में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की ड्यूटी घर-घर सर्वे करने में लगाई है कि किन-किन घरों में लोग सर्दी, खांसी, बुखार से पीड़ित हैं। लेकिन, इस काम को करने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए जो पीपीई किट खरीदी की गई, वह घटिया निकली। किट की चेन बंद नहीं होने के कारण कार्यकर्ता उसे पहन ही नहीं रही हैं। बल्कि खतरे के बीच वे मजबूरी में बिना किट के ही लोगों के घरों तक पहुंचकर जांच रिपोर्ट तैयार कर रही हैं।

नाम नहीं छापने की शर्त पर किया खुलासा
नगर निगम के जोन-3 में सर्वे में लगी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने नाम नही छापने के शर्त में अपना दुखड़ा बयां किया। उनका कहना था कि नगर निगम घटिया पीपीई किट कार्यकर्ताओं को थमा रहा है, जो पहनने लायक नहीं है। इसलिए वे सादे कपड़े में ही घर-घर सर्वे कर रही हैं। सुरक्षा उपाय के तहत वे सिर्फ मुंह में मास्क जरूर लगाई थीं।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned