कोरोना काल में स्कूल छोड़ चुके छात्रों को सरकारी स्कूलों में आसानी से मिलेगा एडमिशन

कोरोना संक्रमणकाल में स्कूल छोड़ने वाले छात्रों की कुंडली बनाने और उन्हें वापस स्कूल बुलाने के लिए लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक ने अधिकारियों व कलेक्टर को निर्देश जारी किया है।

By: Ashish Gupta

Published: 21 Sep 2020, 10:24 AM IST

रायपुर. कोरोना संक्रमणकाल में स्कूल छोड़ने वाले छात्रों की कुंडली बनाने और उन्हें वापस स्कूल बुलाने के लिए लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक ने अधिकारियों व कलेक्टर को निर्देश जारी किया है। आदेश के अनुसार, जो छात्र शिक्षा सत्र 2020-21 और 2019-20 में स्कूल छोड़ा है। ऐसे बच्चे की जानकारी शिक्षा विभाग (CG Education Department) के अधिकारी बनाए और उन छात्रों व उनके अभिभावकों से संपर्क करके उन्हें शिक्षा की मुख्यधारा में वापस बुलाने का प्रयास करें।

संचालक के निर्देश पर जिलेवार विभागीय अधिकारियों ने छात्रों की जानकारी जुटाने का निर्देश अधीनस्थ अधिकारियों को जारी कर दिया है। छात्रों को मुख्य धारा में वापस जोड़ने की इस योजना की मॉनिटरिंग जिला कलेक्टर करेंगे और समय-समय पर समीक्षा करके शिक्षा विभाग के अधिकारियों को वो निर्देश भी जारी करेंगे।

दस्तावेजों की कमी से अब नहीं रुकेगा प्रवेश
निर्देश के अनुसार कक्षा 1 से लेकर 10वीं तक और 11वीं व 12वीं कक्षा में प्रवेश लेने वाले छात्रों को दस्तावेजों की कमी से मायूस नहीं होना पड़ेगा। जिन स्कूलों में छात्र प्रवेश चाहता है, वहां के जिम्मेदार अधिकारी पूर्व स्कूल व दस्तावेजों के आधार पर छात्रों को प्रवेश देंगे। जो दस्तावेज कम होंगे, वे दस्तावेज स्कूल के जिम्मेदार सीधे पूर्व स्कूल से मांगेंगे। दस्तावेजों के अभाव में छात्रों को प्रवेश देने से इनकार नहीं किया जाएगा, जो स्कूल प्रबंधन इन निर्देशों का उल्लंघन करेगा, उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक जितेंद्र शुक्ला ने कहा, स्कूल छोड़ने वालों बच्चों को शिक्षित किया जाए और मुख्यधारा में वापस लाया जाए, इसलिए उनकी जानकारी जुटाने का निर्देश अधीनस्थ अधिकारियों को दिया है। जानकारी आते ही बच्चों और उनके अभिभावकों से संपर्क किया जाएगा और उन्हें वापस स्कूल लाया जाएगा।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned