कोर्ट के निर्देश का उल्लंघन कर रहे निजी स्कूल, मनाही के बावजूद भेज रहे पूरी फीस जमा करने का मैसेज

कोर्ट की मनाही के बावजूद पालक स्कूल प्रबंधन के मनमुताबिक फीस जमा करने के लिए मजबूर है। पालकों का कहना है, कि नियम तो बने है, लेकिन उनका पालन किसी भी स्कूल में नहीं हो रहा है। स्कूल शिक्षा विभाग में शिकायत की गई, लेकिन उसका समाधान अब तक नहंी हुआ है।

By: Karunakant Chaubey

Updated: 26 Aug 2020, 11:15 PM IST

रायपुर. हाईकोर्ट ने निजी स्कूलों को केवल ट्यूशन फीस लेने का निर्देश जारी किया है। हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद निजी स्कूलों के जिम्मेदारों पालकों से पूरी फीस जमा करने के लिए मैसेज भेज रहे हैं और फीस नहीं जमा करने वाले पालकों को उनके बच्चे स्कूल से निकालने की धमकी दे रहे है। कोर्ट की मनाही के बावजूद पालक स्कूल प्रबंधन के मनमुताबिक फीस जमा करने के लिए मजबूर है। पालकों का कहना है, कि नियम तो बने है, लेकिन उनका पालन किसी भी स्कूल में नहीं हो रहा है। स्कूल शिक्षा विभाग में शिकायत की गई, लेकिन उसका समाधान अब तक नहंी हुआ है।

पालकों को नहीं दे रहे शुल्क की जानकारी

संतोषी नगर इलाके में स्थित निजी स्कूल में अपने बच्चों को पढ़ाने वाले पालक ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया, कि स्कूल प्रबंधन के द्वारा रोजाना फीस जमा करने के लिए मैसेज भेजा जा रहा है। मैसेज में एक मुश्त राशि लिखी हुई है। प्रबंधन से राशि की जानकारी पूछी जाती है, तो उनके द्वारा कहा जाता है, कि पहले फीस जमा कर दो रसीद में पूरी जानकारी दी जाएगी। जिन पालको ने पैसा जमा किया है, उन्हें भी रसीद में एक मुश्त पैसा लिखकर दे दिया गया है और उनको जानकारी नहीं दी जा रही है।

ये शुल्क नहीं लेना है स्कूलों को

प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन के पदाधिकारियों की मानें तो हाईकोर्ट के निर्देश के बाद निजी स्कूल लैब, लाइब्रेरी, विकास शुल्क, रेडक्रॉस, स्पोटर््स, और एक्सट्रा एक्टिविटी का पैसा नहीं ले सकते है। जो स्कूल प्रबंधन यह शुल्क ले रहे है, वो नियमों से परे अपनी मनमानी चला रहे है। संस्था के पदाधिकारियों का कहना है, कि संस्था से संबंधित सभी स्कूलों को ट्यूशन फीस लेने का निर्देश दिया है। संस्था से संबंधित स्कूल यदि इस तरह की मनमानी करता है, तो शिकायत मिलने पर उनसे चर्चा करके पालकों की समस्या का समाधान किया जाता है।

इनका है कहना

मेरा बेटा संतोषी नगर स्थित निजी स्कूल में पढ़ता है। स्कूल प्रबंधन लगातार पूरी फीस जमा करने के लिए दबाव बना रहे है। शुल्क के विवरण की जानकारी भी स्कूल प्रबंधन द्वारा नहीं दी जा रही है।

-आदर्श साहू, पालक, संतोषी नगर

हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार हम ट्यूशन फीस देने के लिए तैयारी है। स्कूल प्रबंधन पूरी फीस मांग रहा है और फीस जमा नहंी करने पर बच्चों को स्कूल से निकालने की धमकी दे रहा है। जिम्मेदारों को मामलें में संज्ञान लेना चाहिए।

-गोपाल कुमार, पालक, डीडी नगर

निजी स्कूलों को केवल ट्यूशन फीस लेने का निर्देश जारी किया गया है। जो स्कूल पूरी फीस मांग रहे है, पालक उनकी शिकायत हमारे पास करें। जांच कराने की बाद कार्रवाई की जाएगी।

-जीआर चंद्राकर, जिला शिक्षा अधिकारी,रायपुर।

हाईकोर्ट के निर्देशानुसार केवल ट्यूशन फीस लेना चाहिए। जो स्कूल पालकों से ट्यूशन फीस के साथ अन्य शुल्क मांग रहे है। पालक उनकी शिकायत हमारे पास करें। पालकों की समस्या का समाधान प्रबंधन से चर्चा करके किया जाएगा।
राजीव गुप्ता, सचिव

-प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned