स्थानीय खेतों से सब्जी की आवक हुई कम, बाहर से आने के कारण मुनाफाखोरी शुरू

बाहर से आने वाली सब्जियों पर थोक व्यापारी जमकर कमाई कर रहे हैं। टमाटर, भिंडी, गोभी, मुनगा समेत कई सब्जियां 40 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रही है। परवल, लौकी, बरबट्टी की कीमत भी 40 से 50 रुपये किलो के आसपास बनी हुई है।

By: Karunakant Chaubey

Updated: 26 Jun 2020, 09:25 PM IST

रायपुर. शहर की लोकल बाडिय़ों से इन दिनों सब्जियों की आवक कम हो रही है, जिसका असर सब्जी की कीमतों पर देखने को मिल रहा है। अधिकांश सब्जियां 40 से 50 रुपए प्रतिकिलो तक बिक रही हैं। टोटल लॉकडाउन के समय पर जिला प्रशासन ने सब्जियों की कीमत में मुनाफाखोरी को रोकने के लिए रोज रेट लिस्ट जारी करता था। लेकिन अब प्रशासन का कंट्रोल पूरी तरह से समाप्त हो गया है, जिसके कारण सब्जियों की दाम में भारी उछाल आया है।

बाहर से आने वाली सब्जियों पर थोक व्यापारी जमकर कमाई कर रहे हैं। टमाटर, भिंडी, गोभी, मुनगा समेत कई सब्जियां 40 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रही है। परवल, लौकी, बरबट्टी की कीमत भी 40 से 50 रुपये किलो के आसपास बनी हुई है। किसान तरुण वर्मा ने बताया कि लगातार नुकसान की वजह से कई सब्जी उत्पादक किसानों ने सब्जी फसल नहीं लगाई है। इस कारण लोकल बाडिय़ों में सब्जी का स्टॉक नहीं के बराबर है।

खराब हो चुकी हैं लोकल फसल

रबी के सीजन में जिले के सब्जी उत्पादक किसानों को भारी नुकसान उठना पड़ा था। मौसम में एकाएक आए बदलाव के बाद हुई बारिश से सब्जी की अधिकांश फसलें खराब हो गई थी। टमाटर, लौकी व भिंडी समेत अन्य हरी सब्जियां शामिल हैं। निरंतर नुकसान के चलते सब्जी उत्पादक किसान सब्जी फसल लगाने से हाथ खींचने लगे। इसका असर सब्जी बाजार में देखने को मिल रहा है। इन दिनों सब्जियों की कीमत लगातार बढ़ रही है।

यही स्थिति रहने की संभावना

महीनेभर तक ऐसी स्थिति रह सकती है। उसके बाद लोकल बाडिय़ों में भी सब्जी की आवक शुरू हो जाएगी। किसान रविप्रकाश ताम्रकार का कहना है कि जिले में इन दिनों अन्य प्रांतों से सब्जियां आ रही है, क्योंकि पिछले छह महीने में सब्जी फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। इस कारण सब्जी उत्पादक किसानों में से कई किसान सब्जी फसल लेने से हाथ खींच रहे हैं।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned