सिलेंडर के दाम में वृद्धि से महिलाओं में रोष

किचन का बजट बिगड़ा, रसोई गैस की कीमत 900 पार

खरोरा. घरेलू गैस सिलेंडर के फिर से दाम बढऩे से महिलाओं में काफी रोष व्याप्त है। महिलाओं ने अपनी राय रखते हुए सिलेंडर की कीमत पर लगाम लगाए जाने की मांग की। साथ ही बताया कि सिलेंडर के दाम बढऩे से रसोई का बजट बढ़ जाएगा। जबकि आमदनी कम हो रही है। ऐसे में सरकार को इस ओर कदम उठाना चाहिए।
बुधवार से रसोई गैस की कीमतों में एक फिर से भारी बढ़ोतरी की है। कंपनियों ने गैर सब्सिडी वाले घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत में 149 रुपए की बढ़ोतरी की। गैस उपभोक्ताओं को अब घरेलू सिलेंडर लेने के लिए 925 रुपए खर्च करने पड़ेेंगे।
जानकारी के अनुसार उपभोक्ताओं को बढ़ी हुई कीमत पर गैस बुधवार से ही दी जाने लगी है। ऐसे में आम लोगों की जेब पर बड़ी मार पड़ी है।
गैस उपभोक्ताओं को अब 776 रुपए की बजाए 925 रुपए चुका रहे हैं। हालांकि उपभोक्ताओं को वर्तमान में करीब 341 रुपए सब्सिडी मिल रही है। बताया जा रहा है कि कंपनी के द्वारा पांच सालों में दाम की गई सबसे बड़ी बढ़ोत्तरी में से ये एक है। गैस की कीमत बढऩे से मध्य वर्ग और निम्न वर्ग परिवार को सबसे बड़ा झटका लगा है।
गौरतलब है कि इसी माह की एक तारीख को कॉमर्शियल सिलेंडर की कीमत में वृद्धि हुई थी। इस दौरान घरेलू सिलेंडर की कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ था। जानकार ने बताया कि हर महीने रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी होती है। मगर इस बार महीने के बीच में हुआ है। रसोई गैस की कीमत में बढ़ोतरी का कारण विश्व बाजार है। मगर इसका नुकसान आम लोगों को उठाना पड़ रहा है। बुधवार को गैस लेने आने वाले लोगों में काफी निराशा दिख रही थी। लोग सरकार पर गुस्सा निकाल रहे हैं।
महंगाई पर लोगों ने कहा
गरीबों का चूल्हा
बंद हो जाएगा
सरकार दाल-रोटी महंगी कर अब आम लोगों के घरों का चूल्हा भी बंद कराना चाहती है। अगर रसोई गैस के दाम बढ़ते हैं तो कई गरीबों के घर के चूल्हे बंद हो जाएंगे। सरकार को गरीब लोगों को ध्यान में रखकर फैसला लेने की जरूरत है। सरकार महंगाई आए दिन बढ़ा रही है। इससे महिलाओं में रोष है।
एस सोनी
लोगों का बजट बिगड़ रहा है
सरकार रसोई गैस के इस्तेमाल को बढ़ाने के लिए कई योजना चला रही है। वहीं दामों को बढ़ाकर हमारे जेब पर बोझ डाल रही है। हमारे पास कोई उपाय नहीं है। घर के किन कामों में कटौती करें। सरकार सिलेंडर का दाम बार-बार बढ़ा रही है। इससे रसोई का बजट बिगड़ रहा है। सरकार को इस महंगाई को रोकने की जरूरत है।
मौसमी पोद्दार
रसोई गैस ने रुलाया
पिछले कुछ महीने प्याज ने लोगों को रुलाया अब रसोई गैस। जिस परिवार की आय सीमित हो उसके लिए 149 रुपये काफी मायने रखते हैं। इससे हमारे किचन पर असर न पड़े ऐसा कैसे हो सकता है।
प्रिया शर्मा
बढ़ते जा रहा खर्चा
रसोई घर से हमारे घर का बजट नियंत्रित होता है। लाजमी है कि गैस का दाम बढऩे से हमारे जेब पर असर पड़ेगा। मंहगाई की मार से हम लोग अब परेशान हो गये हैं। आय सीमित है मगर खर्च लगातार बढ़ते जा रहे हैं।
लीना पंसारी

dharmendra ghidode Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned