इस शख्स ने 450 रुपए के हेडफोन के लिए 4 साल तक लड़ा, अब कोर्ट ने सुनाया ये बड़ा फैसला

इस शख्स ने 450 रुपए के हेडफोन के लिए 4 साल तक लड़ा, अब कोर्ट ने सुनाया ये बड़ा फैसला

Chandu Nirmalkar | Updated: 11 Jul 2019, 09:50:42 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

Raipur Consumer court order: आखिरकार 4 साल तक कोर्ट के चक्कर काटने के बाद कोर्ट (court) ने अपना फैसला सुनाया।

रायपुर. किफायदती कीमत और गारंटी का भरोसा देकर कंपनी ने उपभोक्ता को हेडफोन (headfone) बेंचा। खराब होने पर रिपेयर या बदलने की बजाय (Raipur consumer court order) उसे लगातार महीनों चक्कर लगाते रहे। कंपनी को सबक सीखाने उपभोक्ता ने कोर्ट में याचिका दायर कर दिया। आखिरकार 4 साल तक कोर्ट के चक्कर काटने के बाद कोर्ट (Consumer court) ने अपना फैसला सुनाया। लंबी लड़ाई के बाद इस मामले में सुनावाई करते हुए कोई ने सैसमंग कंपनी के खिलाफ अपना फैसला सुनाया।

 

raipur  <a href=consumer court order " src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/11/consumer_court_news_4823963-m.jpg">

450 रुपए के हेडफोन के लिए 4 साल तक लड़ा..
राजधानी के पीडि़त उपभोक्ता राजेश कुमार वर्मा ने बताया कि उसने मार्च 2015 को बालाजी कम्यूनिकेशन कटोरा तालाब से 450 रुपए से सैमसंग कंपनी का हेड फोन खरीदा। जिसमें बेहतरीन फीचर बताते हुए छह महीने की गारंटी दी गई थी। लेकिन हेड फोन उपयोग के दो महीने में ही खराब हो गया। जिसे लेकर लगातार दुकान और सैमसंग कार्यालय के चक्कर काटता रहा। लेकिन कंपनी ने समस्या का समाधान करने की बजाय उसे देने से इंकार कर दिया। वर्मा ने कहा कि कंपनी के इस कृत्य से परेशान होकर जागरूक उपभोक्ता होने के नाते कंपनी के खिलाफ जिला उपभोक्ता फोरम में सैमसंग सर्विसिंग सेंटर के खिलाफ केस दर्ज कराया।

पीडि़त को कंपनी ने कहा, केस दर्ज करने पर आपको ही होगी परेशानी

पीडि़त उपभोक्ता राजेश वर्मा ने बताया कि केस दर्ज कराने पर कंपनी के लोगों ने आपको ही परेशानी होगी, कहकर मजाक उड़ाया था। उपभोक्ता का कहना था कि बात सिर्फ एक हेड फोन की नहीं, उन्हें सबक सीखाने की जरूरत है। इसलिए लगातार चार साल तक केस लड़ता रहा। उन्होंने कहा कि कंपनी की बदमाशी से सिर्फ वे ही नहीं सैकड़ों उपभोक्ता परेशान होते हैं। लेकिन बहुत कम लोग न्याय के लिए लड़ते हैं। उपभोक्ताओं को अपने हक के लिए जागरूक होना जरूरी हैं।

लंबी लड़ाई के बाद पीडि़त के पक्ष में फैसला
आदेश के अनुसार जिला फोरम अध्यक्ष उत्तरा कुमार कश्यप ने समस्त दस्तावेजों और साक्ष्य को देखते कंपनी के खिलाफ जुर्माना ठोका। फोरम ने कंपनी को नया हेड फोन देने, मानसिक क्षतिपूर्ति के लिए 2000 और अधिवक्ता शुल्क 2000 रुपए कुल चार हजार एक महीने के भीतर हर्जाने के रूप में पीडि़त को देने की सजा सुनाई। एक जागरुक उपभोक्ता के रूप में पीडि़त उपभोक्ता राजेश कुमार वर्मा की सराहना की।

 

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

ताज़ातरीन ख़बरों तथा LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

raipur consumer court Order - इन खबरों को जरूर पढ़ें

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned