IT Raid: ट्रांसपोर्टर के होटल में मिले 93 करोड़ की संपत्ति के दस्तावेज

जेल रोड स्थित होटल और वीआईपी रोड के फार्म हाउस में छिपाकर रखा गया था। इस ट्रांसपोर्ट ग्रुप से जुड़े संचालक कारोबार की आड़ में कमीशन के जरिए काली कमाई खपाते थे

By: deepak dilliwar

Published: 17 Nov 2016, 11:45 PM IST

रायपुर. आयकर विभाग को ट्रांसपोर्टर के ठिकानों से 93 करोड़ रुपए की संपति और टैक्स चोरी से संबंधित दस्तावेज मिले हैं। इन्हें जेल रोड स्थित होटल और वीआईपी रोड के फार्म हाउस में छिपाकर रखा गया था। इस ट्रांसपोर्ट ग्रुप से जुड़े संचालक कारोबार की आड़ में कमीशन के जरिए काली कमाई खपाते थे। राजातालाब के एक डॉक्टर से 20 लाख रुपए के 1000 और 500 के नोट से बदले 9 लाख रुपए लेने की पुष्टि हुई है। सर्वे के दूसरे दिन गुरुवार को 26 फार्म और 750 बंडल आईडी सहित लाखों रूपए की गड़बडी़ पाई गई है। ट्रांसपोर्टर और डॉक्टर के 6 ठिकानों पर जांच चल रही है।

हवाला कारोबार
मिलीभगत के चलते काली कमाई को खपाने का खेल पिछले काफी समय से चल रहा था। हवाला कारोबारी उनकी बसों से आने के बाद होटले में ठहरते थे। वहीं लेनदेन करने के बाद कमीशन की राशि तक उन्हें मिल जाती थी। इसके पेपर वह वीआईपी रोड स्थित फार्म हाउस और होटल के एक बंद कमरे में रखते थे। लेनदेन पूरा होने के बाद दस्तावेजों को एक साथ जला दिया जाता था।

झांसा दिया
विभाग की टीम ने जेल रोड स्थित दोनों होटल के 90 रूम की तलाशी ली। इस दौरान होटल के संचालक और मैनेजर उन्हें गुमराह करने की कोशिश करते रहे। तीन यात्रियों के टूर पर जाने का झांसा देकर चाबी नहीं होने की जानकारी दी, लेकिन रजिस्टर की जांच करने पर पता चला कि उसमें से एक रूम का उपयोग दफ्तर के रूप में किया जाता है। संदेह के आधार पर मास्टर चाबी से इसे खुलवाने के बाद तलाशी ली गई। इस दौरान वहां देशभर में फैले हुए कारोबार सहित संपति से जुड़े कई दस्तावेज मिले। इसकी कुल कीमत 93 करोड़ रुपए से भी अधिक है। गौरतलब है कि प्रदेश के सबसे बड़े ट्रांसपोर्टर के पास 250 से अधिक लक्जरी यात्री बसें हैं। इसमें से 193 वाहन परिवार वालों के नाम पर और 57 सहयोगियों की यात्री बसें शामिल हैं।

गोदाम बनाया
वीआईपी रोड स्थित फार्म हाउस का उपयोग गोदाम के रुप में किया जाता था। काली कमाई के दस्तावेजों को यहां लाने के बाद जलाया दिया जाता था। तलाशी में यहां ट्रांसपोर्ट, होटल और हवाला कारोबार से संबंधित दस्तावेज मिले हैं। मुख्य आयकर आयुक्त केसी घुमरिया ने बताया कि फार्म हाउस में जुलाई से सिंतबर 2016 के बीच किए गए निवेश संबंधी दस्तावेज मिले हैं। इसमें टैक्स चोरी और काली कमाई का लेखाजोखा भी शामिल है। इसे जब्त कर लिया गया है। गौरतलब है कि बुधवार को आयकर विभाग की टीम ने होटल कारोबारी के 6 ठिकानों पर दबिश दी थी।

क्लीनिक में जांच
ब्लैकमनी खपाने वाले राजातालाब स्थित डॉक्टर के क्लिनिक में भी आयकर विभाग की टीम छानबीन कर रही है। उसके बैंक खाते, लॉकर, निवेश और नगदी की जांच की जा रही है। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि डॉक्टर के पास लाखों की बेनामी संपत्ति और नगदी हो सकती है। उसे नोटिस जारी कर पूछताछ की जाएगी।

मिलीभगत
मुख्य आयकर आयुक्त केसी घुमरिया ने बताया कि ब्लैकमनी खपाने में बैंकों के मैनेजरों की भूमिका भी संदिग्ध है। उनके सहयोग से बडी़ संख्या में 1000 और 500 रुपए के नोट बिना किसी दस्तावेजी साक्ष्य से जमा कराए जा रहे हैं। उन्हें विभाग की ओर से नोटिस जारी कर आरबीआई के नियमों का पालन करने की हिदायत दी गई है। उन्होंने बताया आयकर विभाग के इंटेलिजेंस की टीम बैंकों के साथ ही बाजार पर नजर रखे हुए हैं। संदेह होने पर उन्हें पूछताछ के लिए तलब किया जाएगा। 
Show More
deepak dilliwar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned