होम आइसोलेशन की व्यवस्था में रायपुर चौथे नंबर पर

होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों से बातचीत कर जिलों की रैंकिंग जारी

By: VIKAS MISHRA

Published: 28 Oct 2020, 05:38 PM IST

रायपुर. कोरोना मरीजों को दिए गए होम आइसोलेशन के विकल्प की बदौलत ही आज राज्य का रिकवरी रेट 86 प्रतिशत जा पहुंचा है। 26 अक्टूबर तक प्रदेश में संक्रमित 1,77608 मरीजों में से 1,53,654 मरीज स्वस्थ हुए। जिनमें से 80,427 मरीजों ने होम आइसोलेशन में रहते हुए कोरोना को मात दी।
वर्तमान में करीब 18 हजार मरीज होम आइसोलेशन में हैं। राज्य कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर रायपुर से सभी 28 जिलों में होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों से फोन पर संपर्क किया गया। इनसे 11 सवाल पूछे और उसके आधार पर जिलों की रैंकिंग जारी की गई है। जिसमें सभी को पछाड़ते हुए दुर्ग जिले नंबर-1 रहा। यानी यहां होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज स्थानीय प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम द्वारा दी जा रही सेवाओं से संतुष्ट हैं। रायपुर नंबर 4 पर रहा।
यह पहली बार यह है जब मरीजों से मिले फीडबैक के आधार पर रैंकिंग जारी की गई है। मरीजों से मिलने वाले फीडबैक के जरिए व्यवस्था में चूक तो सामने आई ही है, साथ ही अब जिलों के बीच प्रतिस्पर्धा भी बढ़ेगी। जिले बेहतरी के लिए और ज्यादा मेहनत करेंगे। इसका सीधा फायदा मरीजों को होगा। कोरोना कंट्रोल एंड कमांड सेंटर के सदस्य एवं मेडिकल कॉलेज रायपुर के कम्युनिटी मेडिसीन विभाग के प्रोफेसर डॉ. कमलेश जैन का कहना है कि किसी भी व्यवस्था में सुधार की गुंजाइश हमेशा होती है। ग्राउंड जीरो से जिन कमियों की जानकारी सामने आई है, उन्हें दूर करना होगा।
शीर्ष 5 जिले, जहां
व्यवस्थाएं ठीक
जिले स्कोर
दुर्ग 91
रायगढ 88
सरगुजा़ 88
रायपुर 85
कवर्धा 85
निचले क्रम से 5 जिले,
जहां सुधार की जरुरत
जिले स्कोर
बिलासपुर 81
मुंगेली 80
सूरजपुर 80
जांजगीर चांपा 77
कोरबा 77

मरीजों से मिले फीडबैक बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। इससे हमें कमियां पता चलती हैं। कुछ जगहों पर मरीजों और उनके परिजनों द्वारा भी लापरवाही बरती जा रही है। इन सभी का समाधान किया जाएगा।
डॉ. सुभाष पांडेय, प्रवक्ता एवं संभागीय संयुक्त संचालक, स्वास्थ्य विभाग

VIKAS MISHRA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned