कभी थे धुर विरोधी, मिले तो सारे गले सिकवे दूर कर ली सियासत की झप्पी

कभी थे धुर विरोधी, मिले तो सारे गले सिकवे दूर कर ली सियासत की झप्पी
Never was a strong opponent, but all the throat seized the issu

deepak dilliwar | Publish: May, 27 2017 11:37:00 AM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे के धुर विरोधी हैं। पिछले चार वर्षों से भाजपा ने कांग्रेस मुक्त भारत का अभियान चला रखा है।

रायपुऱ. मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में भाजपा और कांग्रेस एक दूसरे के धुर विरोधी हैं। पिछले चार वर्षों से भाजपा ने कांग्रेस मुक्त भारत का अभियान चला रखा है। लेकिन शुक्रवार शाम माना हवाई अड्डे पर इन धुर विरोधी दलों के नेता जब एक दूसरे से मिले तो विरोध की जगह सियासत की झप्पी नजर आई।

Read more: लेना है डीटीएच सेटटॉप बाक्स का मजा, तो यहां मिल रहा है फ्री


दरअसल, भाजपा से रायपुर सांसद रमेश बैस और नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल केंद्रीय मंत्री एम. वेंकैया नायडू को विदा करने हवाई अड्डे गए थे। उसी समय कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह भी हवाई अड्डे पहुंच गए। उनके आगमन की जानकारी मिलते ही रमेश बैस और अमर अग्रवाल कांग्रेस खेमे की ओर आ गए। उनके आते ही एक कांग्रेस नेता ने दिग्विजय सिंह का ध्यान रमेश बैस की ओर खींचा, और दिग्विजय सिंह तपाक से उनको खींचकर गले लगा बैठे। उनका कहना था, अरे यार! तुम कहां हो, मैं तो तुम्हारे नाम से रायपुर आता हूं।

इस बीच मंत्री अमर अग्रवाल ने भी दिग्विजय सिंह का अभिवादन किया। तीनों नेताओं के बीच हास-परिहास के बीच थोड़ी देर तक औपचारिक चर्चा होती रही। बताया जा रहा है, रमेश बैस और दिग्विजय सिंह के बीच संयुक्त मध्य प्रदेश के समय से ही रिश्ते काफी अच्छे हैं। लेकिन अमर अग्रवाल पर दिग्विजय काफी तीखे हमले कर चुके हैं। 2013 में नसबंदी कांड के बाद उन्होंने अग्रवाल का इस्तीफा मांगा था और कई बार अमर अग्रवाल भी दिग्विजय सिंह की आलोचना कर चुके हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned