चीन को सबक सिखाने धान,उड़द,चना,चावल,सरसों बीज से तैयार की राखियां

- महिलाओं ने छेड़ी जंग, भाइयों की कलाईयों में सजेंगी स्वदेशी राखियां.

By: Bhupesh Tripathi

Published: 20 Jul 2020, 03:13 PM IST

रायपुर. स्वदेशी राखियों से चीन को सबक सिखाने के लिए चीन में निर्मित सभी सामान का बहिष्कार करना है। इसकी शुरूआत सभी बहने रक्षाबंधन से कर सकती हैं। भाईयों की कलाई पर बांधी जाने वाली राखी चीन के धागे से बनी हुई नहीं, बल्कि स्वदेशी रेशम के धागे से बनाई जाएगी।

रक्षाबंधन का पवित्र त्यौहार अगले महीने 3 अगस्त को मनाया जाएगा। यह त्यौहार सावन मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। भाई-बहन के प्यार को समर्पित यह त्यौहार उनके बीच अटूट रिश्ते को दर्शाता है। यह त्यौहार तब खास हो जाता है, जब बहनें खुद अपने हाथों से राखी तैयार कर भाईयों के कलाईयों में बांधती है। लॉकडाउन और कोरोना के बीच महिला समूहों की बहनें इस बार राखी के त्यौहार को विशेष रूप से मनाएंगी। वे खुद अपने हाथों से अपने भाईयों के लिए राखी का निर्माण बड़े पैमाने पर कर रही हैं। फिंगेश्वर विकासखंड अंतर्गत ग्राम कोपरा के उगता सूरज महिला समूह से जुड़ी महिला समूहों ने इसे नया रूप दिया है।

प्लास्टिक और फैंसी राखियों के स्थान पर घर में प्रयुक्त होने वाली खाद्य सामग्रियों को मिलाकर राखी का निर्माण खूबसूरती के साथ किया जा रहा है। इस बार राखी में धान, चावल, चना, सरसो, उडद के बीज आदि खाद्य सामग्री के साथ-साथ मौली धागा के विभिन्न प्रकार की आकर्षक एवं सस्ती राखी का निर्माण कोपरा के उगता सूरज ग्राम संगठन समिति द्वारा किया जा रहा है। स्थानीय मांग और लागत को ध्यान में रखते हुए राखियां कम मूल्य पर तैयार की जा रही हैं। इन राखियों का मूल्य 5 रुपए से लेकर अधिकतम 50 रुपए की कीमत तक हैं।

स्टॉल लगाकर की जा रही विक्रय की तैयारी
राखियों को बेचने के लिए दुकानदारों के माध्यम से और छोटे-छोटे स्टॉल लगाकर विक्रय करने की तैयारी की जा रही है। इससे मिलने वाले लाभ से समूह की आय बढ़ेगी। इस काम में कुल 20 लोग शामिल हैं, जिसमे कुछ स्कूल के बच्चे भी शामिल हैं। यह राखी बनाने का मुख्य उद्देश्य स्वदेशी को अपनाना है और साथ ही कोरोना काल में चल रही बेरोजगारी को दूर करना ही मुख्य उद्देश्य है।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned