हाईकोर्ट : बलात्कार पीडि़ता नाबालिग ने मांगी गर्भपात की अनुमति, शासन ने रखा अपना पक्ष

हाईकोर्ट : बलात्कार पीडि़ता नाबालिग ने मांगी गर्भपात की अनुमति, शासन ने रखा अपना पक्ष

By: ramdayal sao

Published: 19 Mar 2020, 02:01 AM IST

raipur/बिलासपुर. 11 वर्षीय एक बलात्कार पीडि़त बच्ची व उसके अभिभावक ने कोर्ट में गर्भपात की अनुमति के लिए याचिका दायर की है। इस मामले में बुधवार को सुनवाई हुई। शासन की ओर से अपना पक्ष रखा गया। इस मामले में फैसला आना शेष है। उम्मीद जताई जा रही है कि गुरुवार को फैसला आ जाएगा। शासन की ओर से महाविधवक्ता ने सतीशचंद्र वर्मा ने अपना पक्ष रखा। मामले की सुनवाई जस्टिस पीएस कोशी की अदालत में हुई।
जानकारी के अनुसार मामला बालोद जिले का है जहां एक 11 वर्षीय दुष्कर्म पीडि़ता व उसके अभिभावक ने हाईकोर्ट में गर्भपात की अनुमति के लिए 16 मार्च को याचिका दायर की है। सुनवाई के दौरान यह तथ्य सामने आया कि पीडि़ता 27 हफ्ते की गर्भवती है। उपरोक्त संदर्भ में जिले के ही एक थाने में मामला दर्ज है। ऐसे में कोर्ट ने निर्देश दिया कि अधिष्ठाता मेडिकल कॉलेज रायपुर के निर्देशन में दो महिला विशेषज्ञ चिकित्सक के द्वारा जांच करवाकर 17 मार्च को रिपोर्ट पेश किया जाए। ताकि पुन: एक दिन पश्चात उपरोक्त मामले की सुनवाई की जा सके।

मेडिकल टीम ने कहा

इस मामले में मेडिकल कॉलेज रायपुर की विशेषज्ञ डॉ. नलिनी मिश्रा एवं डॉ रुचि किशोर की टीम ने जांच के बाद यह अभिमत दिया कि एमटीपी एक्ट 1971 के अंतर्गत निर्धारित गर्भपात के लिए 20 सप्ताह की समय सीमा से यह काफी अधिक होने के कारण गर्भ को जारी रखने एवं गर्भपात कराये जाने, दोनों ही अवस्था में जान के जोखिम की संभावना रहेगी। फिर भी कोर्ट के निर्देश एवं बच्ची के अभिभावक के सहमति से गर्भपात करवाया जा सकता है।
शासन ने रखा पक्ष
इस मामले की सुनवाई 18 मार्च को भी हुई इस दौरान मेडिकल कॉलेज रायपुर की विशेषज्ञ डॉ नलिनी मिश्रा एवं डॉ रुचि किशोर की टीम की रिपोर्ट कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत की गई। शासन की ओर से उपस्थित महाधिवक्ता सतीशचंद्र वर्मा ने इस प्रकरण में शासन का पक्ष रखते हुए कहा कि राज्य शासन इस प्रकरण को असाधारण प्रकरण के तौर पर लेते हुए पीडि़ता मां एवं उसके संतान के गहन चिकित्सा, समस्त देखरेख एवं व्यय की जिम्मेदारी शासन की रहेगी एवं आजीवन उन दोनों की जिम्मेदारी का वहन राज्य शासन द्वारा किया जाएगा।

ramdayal sao Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned