TI लेडी पुलिस से कहता था अरे पगली.. तू मेरी बीवी, 4 साल तक किया अय्याशी, अब खुला राज

TI लेडी पुलिस से कहता था अरे पगली.. तू मेरी बीवी, 4 साल तक किया अय्याशी, अब खुला राज

Chandu Nirmalkar | Publish: Sep, 09 2018 07:23:46 PM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

TI लेडी पुलिस से कहता था अरे पगली तू मेरी बीवी, 4 साल तक किया अय्याशी, अब खुला राज

रायपुर. छत्तीसगढ़ पुलिस में इस टीआई के घिनौने करतूतों ने खाकी को दागदार कर दिया। दरअसल बिलासपुर जिले में महिला पुलिस के साथ 4 साल तक दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। यहां थाने में पदस्थ एक महिला एसआई को शादी का झांसा देकर थाना प्रभारी ने 4 साल तक दैहिक शोषण किया। वहीं, शादी करने की जिद करने पर वह मना कर दिया। पीडि़ता महिला पुलिस ने थाने में मामले में की शिकायत दर्ज कराई है। बिलासपुर पुलिस ने आरोपी टीआई के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।

 

rape case in chhattisgarh

ये है पूरा मामला
एएसपी अर्चना झा ने बताया, कि जिले में पदस्थ एक महिला एसआई ने 4 महीने पूर्व शिकायत दर्ज कराई थी कि वर्तमान में जांजगीर-चांपा में पदस्थ टीआई प्रदीप आर्य से 5 वर्ष पूर्व ट्रेनिंग कैंप में उसकी मुलाकात हुई। प्रदीप ने उसे प्रेम जाल में फंसाया और शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने लगा। 4 वर्ष तक प्रदीप उसका दैहिक शोषण करता रहा।

मन भर गया तो महिला पुलिस से बना ली दूरी
महिला एसआई के साथ अय्याशी करने से मन गया तो दूसरी लड़कियों के साथ भी प्रदीप की दोस्ती हो गई। इसके बाद उसने महिला एसआई से मिलना जुलना कम कर दिया। महिला एसआई ने उसे शादी करने के लिए कहा तो उसने परिजनों की मर्जी से दूसरी लड़की से शादी करने की बात कहते हुए महिला एसआई को इनकार कर दिया।

आरोपी टीआई के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज
पीडि़ता द्वारा की गई यह शिकायत की जांच सही पाई गई। शिकायत जांच से एसपी आरिफ एच शेख और आईजी को अवगत कराया गया। आईजी व एसपी के आदेश पर गुरुवार देर रात टीआई प्रदीप आर्य के खिलाफ महिला थाने में भादवि की धारा 376 के तहत अपराध दर्ज कर लिया गया है।

आरोपी टीआई फरार
एएसपी अर्चना ने बताया कि आरोपी टीआई वर्तमान में जांजगीर-चांपा जिले में पदस्थ है। एफआईआर के बाद वह फरार हो गया है। उसकी तलाश कर जा रही है।

थाना प्रभारी प्रदीप आर्या ने अपने बयान में कहा है कि एसआई मैडम ने रायपुर में 24 लाख का फ्लैट खरीदते समय मुझसे 12 लाख रुपए उधार लिए थे। इस बारे में शपथ पत्र मैंने अधिकारियों को दिया था। मैडम ने रकम वापसी से इनकार कर दिया था। झूठी शिकायत कर मुझे ब्लैकमेल किया गया। पैसे देना ना पड़े इसलिए झूठा मामला दर्ज कराया गया है।

Ad Block is Banned