scriptRare seven-month-old stone baby found inside 26-year-old woman stomach | महिला के पेट के अंदर मिला सात माह का दुर्लभ स्टोन बेबी, मेडिकल कॉलेज में रखा गया सुरक्षित | Patrika News

महिला के पेट के अंदर मिला सात माह का दुर्लभ स्टोन बेबी, मेडिकल कॉलेज में रखा गया सुरक्षित

गरियाबंद निवासी 26 वर्षीय महिला विगत कुछ दिनों से पेट में दर्द और पानी भरने के कारण होने वाले सूजन एसाइटिस की समस्या से जूझ रही थी।

रायपुर

Published: July 29, 2021 06:35:52 pm

रायपुर. गरियाबंद निवासी 26 वर्षीय महिला विगत कुछ दिनों से पेट में दर्द और पानी भरने के कारण होने वाले सूजन एसाइटिस की समस्या से जूझ रही थी। बीमारी का इलाज कराने के लिए महिला आंबेडकर अस्पताल के स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग में भर्ती हुई। जांच में महिला के पेट में दुर्लभ लिथोपेडियन (स्टोन बेबी) का पता चला। स्त्री एवं प्रसूति रोग विभागाध्यक्ष प्रो. डॉ. ज्योति जायसवाल के नेतृत्व में स्टोन बेबी को बाहर निकालने के लिए सर्जरी गई, जिसमें करीब 7 माह के विकसित दुर्लभ स्टोन बेबी (मृत) को बाहर निकाला गया। सर्जरी के बाद महिला के पेट की परेशानी समाप्त हो गई।
rare operation
26 वर्षीय महिला के पेट के अंदर मिला सात माह का दुर्लभ स्टोन बेबी, मेडिकल कॉलेज में रखा गया सुरक्षित
महिला पूरी तरह ठीक है और डिस्चार्ज होने को तैयार है। विभागाध्यक्ष डॉ. ज्योति जायसवाल ने बताया कि बच्चेदानी के बाहर पेट यानी एब्डोमन में भ्रूण का विकास होकर स्टोन बेबी में बदल जाने की स्थिति बहुत ही दुर्लभ है। ऐसे केस काफी कम होते हैं। इस केस को मेडिकल जर्नल में प्रकाशन के लिए मरीज के परिजनों से स्वीकृत ले ली गई है।
यह भी पढ़ें: तीसरी लहर में कुपोषित बच्चों को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती, इन बातों का रखें ध्यान

साथ ही मेडिकल कॉलेज में भविष्य में चिकित्सा छात्रों के अध्ययन के लिए परिजनों की स्वीकृति पर स्टोन बेबी को सुरक्षित रख लिया गया है। महिला को राजधानी के एक अन्य अस्पताल से सोनोग्राफी की रिपोर्ट के साथ रेफर किया गया था। सोनोग्राफी से जानकारी मिली कि महिला के पेट के अंदर करीब 7 माह का स्टोन बेबी है, जो गर्भाशय के बाहर पेट में स्थित है और कैल्शियम के जमाव से पत्थर (लिथोपेडियन) में तब्दील हो चुका है। लिथोपेडियन या स्टोन बेबी तब बनता है जब गर्भावस्था, गर्भाशय के बजाय पेट में (एब्डामिनल प्रेगनेंसी) होती है।
15 दिनों पहले हुई थी नॉर्मल डिलेवरी
महिला की 15 दिनों पहले नॉर्मल डिलेवरी हुई थी। करीब साढ़े 7 माह के एक जीवित शिशु को जन्म दिया था। हालांकि, इलाज के बाद उसे बचाया नही जा सका। महिला के पेट में दो बेबी थे। एक जो बच्चेदानी (यूट्रस) के अंदर सामान्य शिशुओं की तरह पल रहा था एवं जीवित जन्म लिया और दूसरा बच्चेदानी के बाहर एवं पेट (आंत व आमाशय के आसपास) के अंदर स्टोन (मृत) में तब्दील हो चुका था। डॉ. ज्योति जायसवाल ने बताया कि ऑपरेशन में ज्यादा दिक्कतें नहीं आई क्योंकि पेट के अंदर बेबी ने आसपास के अंगों को प्रभावित नहीं किया था। ऑपरेशन में डॉ. रुचि गुप्ता, डॉ. स्मृति नाईक और डॉ. प्रियांश पांडे, एनेस्थीसिया से डॉ. मुकुंदा ने भी काफी सहयोग दिया।
यह भी पढ़ें: अच्छी खबर: कोरोना टीकाकरण में रायपुर ने देश के 4 महानगरों को पीछे छोड़ा

मेडिकल कॉलेज में संभवत: तीसरा केस
डॉ. ज्योति जायसवाल ने बताया कि बतौर डॉक्टर रायपुर मेडिकल कॉलेज में यह तीसरा केस देखा है। इससे पहले पीजी स्टूडेंट थी तब करीब 22 साल पहले एक केस देखा था। कुछ सालों पूर्व एक और केस यहां आया था। संभवत: यह तीसरा केस है। एब्डॉमिनल प्रेगनेंसी में पेट के अंदर बहुत कम बच्चे जीवित रह पाते हैं। ऐसा भी नहीं होता कि बच्चा पेट के अंदर इतना बड़ा हो गया हो कि डिलीवरी का टाइम आ गया और मरा नहीं। यह भी दुर्लभ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतरणवीर सिंह के बेडरूम सीक्रेट आए सामने,दीपिका को नहीं करने देते ये कामइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावधनु, मकर और कुंभ वालों को कब मिलेगी शनि साढ़े साती से मुक्ति, जानिए सही डेटदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

RRB-NTPC Results: प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले रेल मंत्री, रेलवे आपकी संपत्ति है, इसको संभालकर रखेंRepublic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहजिनका नाम सुनते ही थर-थर कांपते थे आतंकी, जानें कौन थे शहीद ASI बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रRepublic Day 2022: 'अमृत महोत्सव' के आलोक में सशक्त बने भारतीय गणतंत्रमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेमहाराष्ट्रः Google के CEO सुंदर पिचई के खिलाफ दर्ज हुई FIR, जानिए क्या है मामलाUP Election 2022: छठां चरण- योगी आदित्यनाथ के लिए गोरखपुर सदर सुरक्षित घरेलू सीट, मगर...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.