scriptRatanpur Mahamaya and Danteshwari will be included in 'Prasad' scheme | रतनपुर महामाया और दंतेश्वरी धाम को 'प्रसाद' योजना में शामिल करने की तैयारी | Patrika News

रतनपुर महामाया और दंतेश्वरी धाम को 'प्रसाद' योजना में शामिल करने की तैयारी

मां बम्लेश्वरी, मां दंतेश्वरी और मां महामाया के दर्शनों के लिए लाखों श्रद्धालु हर साल पहुंचते हैं। यही वजह है कि केंद्र सरकार ने मां बम्लेश्वरी धाम डोंगरगढ़ को प्रसाद योजना में शामिल किया है।

रायपुर

Published: November 04, 2021 03:47:03 pm

रायपुर. छत्तीसगढ़ के देवी तीर्थ स्थलों की देश-दुनिया में प्रसिद्धि है। मां बम्लेश्वरी, मां दंतेश्वरी और मां महामाया के दर्शनों के लिए लाखों श्रद्धालु हर साल पहुंचते हैं। यही वजह है कि केंद्र सरकार ने मां बम्लेश्वरी धाम डोंगरगढ़ को प्रसाद योजना में शामिल किया है। 44.33 करोड़ रुपए की स्वीकृति हो चुकी है। काम भी शुरू हो गया है। अब पर्यटन मंडल केंद्र की इसी योजना में मां महामाया और मां दंतेश्वरी मंदिर को भी शामिल करवाने की तैयारी में है। रतनपुर स्थित महामाया धाम के प्रोजेक्ट तैयार करने के लिए मंडल द्वारा कंसल्टेंट एजेंसी भी नियुक्त कर दी गई है। अगले, 4-5 महीने में यह प्रोजेक्ट सब्मिट कर दिया जाएगा।
danteswari_temple.jpg
रतनपुर महामाया और दंतेश्वरी धाम को 'प्रसाद' योजना में शामिल करने की तैयारी
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक महामाया मंदिर में रोप-वे के जरिए श्रद्धालुओं को पहुंचाने की व्यवस्था होगी। दंतेश्वरी धाम को लेकर भी कवायद जारी है। बता दें कि कोरोना काल में छत्तीसगढ़ में स्थानीय पर्यटन बढ़ा है। बीते 16-17 महीनों में 67 लाख पर्यटन छत्तीसगढ़ पहुंच चुके हैं। इनमें सबसे ज्यादा पर्यटन धार्मिक स्थलों तक पहुंचे। यही वजह है कि राज्य सरकार धार्मिक पर्यटन पर विशेष फोकस किए हुए है। राम वन गमन पथ सरकार इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। सरकार का यह ड्रीम प्रोजेक्ट है। इस प्रोजेक्ट पर युद्ध स्तर पर काम जारी है।
बम्लेश्वरी धाम से जुड़े प्रोजेक्ट पर काम तेज
मंडल के अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक कोरोना काल की वजह से थोड़े समय काम बंद था, मगर अब काम रफ्तार से जारी है। मंदिर से लगी 3 पहाड़ियों के बीचों-बीच श्रीयंत्र की आकृति का एक स्ट्रक्चर बनाया जा रहा है। इसमें तीर्थ यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था, पुस्तकालय, ध्यान केंद्र, एपी थिएटर रहेगा। मंदिर परिसर को भी रिनोवेट किया जाएगा।
जानें प्रसाद योजना के बारे में
योजना के तहत केंद्र सरकार ने प्रथम चरण में देश के 26 धार्मिक तीर्थ स्थलों का चयन किया है। इन्हें पर्यटन के लिहाज से विकसित किया जा रहा है ताकि देश-विदेश के पर्यटक यहां पहुंच सकें। पर्यटन को बढ़ावा मिले। इन स्थलों की प्रसिद्धी का विस्तार हो।
छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल के अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने कहा, हमारे प्रमुख देवी तीर्थ स्थल महामाया मंदिर और दंतेश्वरी मंदिर को प्रसाद योजना में शामिल करवाने के लिए प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। जल्द इस केंद्र को भेजा जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.