रवि भवन- लालगंगा शॉपिंग मॉल के कारोबारी खरीद रहे थे ठगों के माल, पुलिस के पहुंचते ही हुआ ये

- साइबर फ्रॉड करने वालों का माल बेचने वाले चारों आरोपी गए जेल.
- ठगों की तलाश में दूसरे राज्य जाएगी पुलिस की टीम.

By: Bhupesh Tripathi

Published: 21 Jun 2021, 11:31 PM IST

रायपुर। देशभर में ऑनलाइन ठगी करके खरीदे गए सामान रायपुर के कुछ कारोबारी खरीद रहे थे। रविभवन और लालगंगा जैसे शॉपिंग मॉल में ठगी के सैकड़ों चीजें खप रही थी। जब पुलिस की टीम तलाशी लेने पहुंची, तो कारोबारी कहने लगे कि अनजाने में खरीद रहे थे। पुलिस ने किसी कारोबारी को आरोपी नहीं बनाया गया है, जबकि पिछले करीब पांच साल से ठगों का माल यहां खप रहा था।

उल्लेखनीय है कि साइबर फ्रॉड करते समय ठग ऑनलाइन मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर, टीवी या अन्य इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीद लेते हैं। फिर इनको अपने एजेंटों के जरिए कारोबारियों को बेच देते हैं और एजेंट अपना कमीशन काटकर पूरी रकम ठगों को ट्रांसफर कर देते हैं। रायपुर से पुलिस ने शनिवार को ठगों के चार एजेंट सुदीप देवांगन, गौरव बलानी, तुषार जैन और आशीष झा को गिरफ्तार किया है। आरोपी ठगों द्वारा फ्लिपकार्ड से खरीदे गए सामान को अपने पते पर मंगवाते थे और उन्हें लालगंगा व रविभवन के कुछ कारोबारियों को बेचते थे। आरोपियों के पकड़े जाने के बाद माल बरामद करने उनकी निशानदेही पर पुलिस की टीम रविभवन और लालगंगा शॉपिंग मॉल पहुंची थी। इससे कारोबारियों में हड़कंप मच गया था। कारोबारियों का कहना था कि आरोपियों ने ई-कामर्स कंपनियों से खुद के लिए मंगाने की जानकारी देकर बेचा था।

रविभवन-लालगंगा शॉपिंग मॉल बना अड्डा
रविभवन और लालगंगा शॉपिंग चोरी या ठगी का सामान खरीदने का अड्डा बना हुआ है। सूत्रों के मुताबिक कई नकली मोबाइल, बैटरी, चार्जर भी पकड़ा जा चुका है। लालगंगा शॉपिंग मॉल के एक दुकान में चोरी का मोबाइल खपाया जाता है। कई बार उसका नाम सामने आ चुका है, लेकिन उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

ज्यादा पैसा कमाने की भूख
सुदीप और उसके साथियों को कम समय में अधिक पैसा कमाने का लालच था। सोशल मीडिया के जरिए आरोपियों का झारखंड के प्रिंस से संपर्क हो गया। इसके बाद चारों उनका काम करने लगे। रविवार को पुलिस ने सुदीप, गौरव, तुषार और आशीष को न्यायालय में पेश किया, जहां से चारों को जेल भेज दिया गया। पुलिस आरोपियों के दुर्ग-भिलाई, बिलासपुर व अन्य शहरों में नेटवर्क की जांच कर रही है।

दूसरे राज्य जाएगी पुलिस
आईपीएस अंकिता शर्मा ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों के संपर्क में रहने वाले दूसरे राज्य के साइबर ठगों की तलाश में पुलिस की टीमें जाएगी। फिलहाल पकड़े गए आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। रविभवन और लालगंगा के कारोबारियों ने अनजाने में सामान खरीदने की जानकारी दी है। इसलिए उन्हें आरोपी नहीं बनाया गया है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned