अगर किसी गाड़ी की जानकारी चाहिए तो करें इस नंबर पर SMS, मिनटों में मिलेगा मालिक का नाम और पता

सभी आरटीओ और एआरटीओ को नए नंबर से जोडऩे की तैयारी

By: Deepak Sahu

Published: 20 Jul 2018, 10:17 AM IST

रायपुर. अब सड़क दुर्घटना के बाद वाहन सहित भागने वालों की मिनटों में शिनाक्त होगी। इसके लिए पुलिस और परिवहन विभाग के दफ्तर का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। मोबाइल से एक एसएमएस करते ही संबंधित वाहन और उसके मालिक का नाम-पता सहित सभी जानकारी मिलेगी। इसके अलावा वाहनों की अवैध खरीद-बिक्री और धोखाधड़ी करने वाले गिरोह तक पहुंचने में मदद मिलेगी।

बस इस नंबर पर करना होगा SMS
परिवहन विभाग ने घर बैठे लोगों को वाहन से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराने नया मोबाइल नंबर जारी किया है। वाहन का नंबर लिखकर 7738299899 पर एसएमएस भेजते ही तुरंत इसका ब्यौरा मिलेगा। पाइलेट प्रोजेक्ट के तहत यह सुविधा महासमुंद जिले में शुरू की गई है। इसे शीघ्र ही राज्य के सभी जिलों में शुरू की जाऐगी। विभागीय अफसर इसकी तैयारियों में जुटे हुए है।

इस तरह भेजे संदेश
विभाग द्वारा जारी किए गए मोबाइल पर संबंधित वाहन का रजिस्ट्रेशन लिखने के बाद स्पेश देकर इसे जारी किए गए नंबर पर भेजे। इसके तुरंत बाद परिवहन विभाग के डाटा सेंटर से वाहन का प्रकार, मालिक का नाम और पता, मॉडल, रजिस्टे्रशन, इंजन और चेचिस नंबर सहित अन्य जानकारी मिलेगी। इस नंबर पर एसएमएस भेजने पर सामान्य राशि का भुगतान करना पड़ेगा। गौरतलब है कि इस सेवा से शुरू होने पर देशभर के साथ ही प्रदेश में रजिस्टर्ड वाहनों को देखा जा सकेगा।

rto news

रिपोर्ट मांगी
परिवहन विभाग मुख्यालय ने सभी जिलों के आरटीओ और एआरटीओ से एसएमएस सेवा शुरू करने के रिपोर्ट मांगी है। सारी तैयारियां करते ही इसे सर्वर से जोडऩे का काम किया जाएगा। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि सप्ताहभर में मुंगेली आरटीओ और इसके बाद दुर्ग जिला को जोड़ा जाना है।

ऑनलाइन सेवा
राज्य में करोडो़ रुपए का ई-चालन घोटाला सामने आने के बाद सभी सेवाओं को ऑनलाइन की प्रक्रिया शुरू की गई थी।
इस समय टैक्स भुगतान से लेकर परमिट, फिटनेस, डीलर पाइंट रजिस्ट्रेशन सारथी-4 साफ्टवेयर के माध्यम से किए जा रहे है। गौरतलब है कि 2012 में परिवहन विभाग ने इसकी शुरूआत की थी।

शुरू करने की तैयारी
सहायक परिवहन आयुक्त शैलाभ साहू ने बताया कि मोबाइल नंबर पर एसएमएस करते ही तुरंत संबंधित वाहन की जानकारी मिलेगी। प्रथम चरण में महासमुंद जिले से इसकी शुरूआत की गई है। शीघ्र ही इसे अन्य जिलों में शुरू किया जाऐगा।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned